दशमः पाठः
मन्दाकिनीवर्णनम्

(प्रस्तुतः पाठः वाल्मीकीयरामायणस्य अयोध्याकाण्डस्य पञ्चनवति (95) तमात् सर्गात संकलितः। वनवासप्रसद्धेः रामः सीतया लक्ष्मणेन च सह चित्रकूटं प्राप्नोति। तत्रस्थिता मन्दाकिनीनदी वर्णयन् सीतां सम्बोधयति। इयं नदी प्राकृतिकैरूपादानैः संवलिता चित्तं हरति। अस्याः वर्णनं कालिदासे रघुवंशकाव्येऽपि (त्रयोदशसर्गे) करोति। अनुष्टुप्छन्दसि महर्षिः वाल्मीकिः मन्दाकिनीवर्णने प्रकृतेः यथार्थ चित्रणं करोति।)
अर्थ-प्रस्तुत पाठ वाल्मीकीय रामायण के अयोध्या काण्ड के 95वें सर्ग से संकलित है। वनवास काल में राम; सीता और लक्ष्मण के साथ चित्रकूट जाते हैं। वहाँ स्थित मन्दाकिनी नदी का वर्णन करते हुए सीता को सम्बोधित करते हैं। यह नदी प्राकृतिक उपादानों से संवलित (भरीपुरी) चित्त को आकर्षित कर रहा है। (इसका वर्णन कालिदास रघुवंश महाकाव्य के तेरहवें सर्ग में भी करते हैं। अनुष्टुप छन्द में महर्षि वाल्मीकि मन्दाकिनी वर्णन में प्रकृति का वास्तविक चित्रण करते हैं।
विचित्रपुलिना रम्यां हंससारससेविताम् ।
कुसुमैरूपसंपन्नां पश्य मन्दाकिनी नदीम् ॥1॥

अर्थ-हे सीते ! फुलों से सम्पन्न, रंग बिरंगे तटों वाली, और हंसों के द्वारा शोभित सुन्दर मन्दाकिनी नदी को देखो।
नानाविधैस्तीररूहैर्वृतां पुष्पफलद्रुमैः ।
राजन्ती राजराजस्य नलिनीमिव सर्वतः ॥2॥

अर्थ-सीते ! अनेक प्रकार के तट पर स्थित वृक्ष के पुष्प एवं फल से आच्छादित सभी ओर सुशोभित होती हुई राज महाराज (राजकीय) के तालाब के समान इसे देखो।
मृगयूथनिपीतानि कलुषाम्भांसि साम्प्रतम् ।
तीर्थानि रमणीयानि रतिं संजनयन्ति में ॥3॥
अर्थ-सीते ! हिरणों के झूड पानी पीकर इस समय यहाँ का जल गंदा कर गये हैं तथापि उसके रमणीय घाट मेरे मन को बड़ा आनन्द दे रहे हैं।
जटाजिनधराः काले वल्कलोत्तरवाससः।
ऋषयस्त्ववगाहन्ते नदी मन्दाकिनी प्रिये ॥4॥
अर्थ-प्रिय ! इस समय में जटा और मृगचर्म धारण करने वाले तथा वृक्ष की छाल को वस्त्र के रूप में धारण करने वाले ऋषिगण मन्दाकिनी नदी के जल में स्नान कर रहे हैं।
आदित्यमुपतिष्ठन्ते नियमादूर्ध्वबाहवः।
एते परे विशालाक्षि मुनयः संशितव्रताः ॥5॥

अर्थ-हे बड़ी बड़ी नेत्रो वाली ! ये परम प्रशंसनीय व्रतवाले मुनिगण जिन्होंने अपनी भुजा को उपर कर रखा है नियम से सूर्य की उपासना कर रहे हैं।
मारूतोद्धृतशिखरैः प्रन्टन्त्र इव पर्वतः।
पादपैः पुष्पपत्राणि सजभिरभितो नदीम् ॥6॥

अर्थ-हे बड़ी बड़ी आँखों वाली ! नदि के दोनों ओर पुष्प और पत्रों से सुसज्जित वृक्षों एवं हवा के द्वारा चोटियों को उड़ाते हुए पर्वत नाचते जैसे प्रतीत हो रहे हैं।
क्वचिन्मणिनिकाशोदां क्वचित्पुलिनशालिनीम् ।
क्वचित्सिद्धजनाकीर्णा पश्य मन्दाकिनी नदीम् ॥7॥

अर्थ-हे विशालाक्षि ! देखो मन्दाकिनी नदी की कैसी शोभा है। कहीं तो इसमें मोतियों के समान स्वच्छ जल बहता दिखाई देता है कही यह ऊँचे कगारों से ही शोभा पाती है और कहीं सिद्धजन इसमें अवगाहन कर रहे हैं तथा यह उनसे व्याप्त दिखायी देती है।
निर्वृतान् वायुना पश्य विततान् पुष्पसञ्चयान्।
पोप्लूयमानानपरान्पश्य पश्य त्वं जलमध्यगान् ॥8॥

अर्थ-सूक्ष्म कटि प्रदेशवाली सुन्दरी ! देखो वायु के द्वारा उड़ा कर लाये हुए ये ढेर के ढेर फूल किस तरह मंदाकिनी के दोनों तट पर फैले हुए हैं और वे दूसरे पुष्प समूह कैसे पानी पर तैर रहे हैं।
तांश्चातिवल्गुवचसो श्याङ्गाह्वयना द्विजाः।
अधिरोहन्ति कल्याणि निठकूजन्तः शुभा गिरः ॥9॥

अर्थ-देखो तो सही ये मीठी बोली वाले चक्रवाक पक्षी सुन्दर कलरव करते हुए किस तरह नदी के तटों पर आरूढ़ हो रहे हैं।
दर्शनं चित्रकूटस्य मन्दाकिन्याश्च शोभने।
अधिकं पुरवासाच्च मन्ये तव च दर्शनात् ॥10॥

अर्थ-शोभने ! यहाँ जो प्रतिदिन चित्रकूट और मंदाकिनी का दर्शन होता है, वह नित्य-निरन्तर तुम्हारा दर्शन होने के कारण अयोध्या निवास की अपेक्षा भी अधिक सुखद जान पड़ी है।
शब्दार्थाः
विचित्र पुलिना - विविधवर्णतीराम् - रंग-बिरंगे तटों वाली
रम्यां - रमणीयम् - सुन्दर को
कुसुमैः - पुष्पैः - फूलों से
द्रुमैः - वृक्षैः - वृक्षों से
राजन्ती - शोभमानाम् - सुशोभित होती हुयी
नलिनीम् - पुष्करिणीम् - पोखर, तालाब को
मृगयूथनिपीतानि - पशुसमूहनिपीतानि - पशु समूह द्वारा पीये गये
कलुषाम्भासि - दूषितानि जलानि - गन्दे जल
रमणीयानि - मनोहराणि - मन को मोहित करने वाले
जटाजिनधराः - जटाधारिणः - जटा और मृगचर्मधारण करने वाले
वल्कलोत्तरवाससः - वृक्षत्वग्रूपवस्त्रधारिणः - वृक्ष की छाल को वस्त्र के रूप में धारण करनेवाले
ऊर्ध्ववाहवः - कृतोपरिभुजाः - जिन्होंने अपनी भुजा को ऊपर किया
विशालाक्षि - विशालनेत्रे - बड़ी-बड़ी आँखो वाली
संशितव्रताः - प्रशंसितव्रताः - प्रशंसनीय व्रत वाले
मारूतोद्धृतशिखरैः - पवनान्दोलित शृङ्गः - हवा के द्वारा चोटियों को उड़ाते हुए
निर्धूतान् - विकीर्णाम् - उड़ाए गये
विततान् - विस्तृतान् - विस्तार किये गये
द्विजाः - खगाः - पक्षी
रथाङ्गाह्वयनाः - चक्रवाकाः - चकवे
वल्गुवचसः - मधुरवचनाः - मीठी बोली वाले
पोप्लूयमानान् - उत्प्लवमानान - तैरते हए
राजराजस्य - कुबेरस्य - कुबेर का
नलिनीम् - पुष्करिणीम् - पोखर, तलाब को
व्याकरणम्
सन्धि विच्छेदः

कुसुमैरूपसम्पन्नाम् - कुसुमैः + उपसम्पन्नाम्
नानाविधैस्तीररूहैर्वृता - ननाविधैः + तीररूहै: + वृता
नलिनीमिव - नलिनीम् + इव
कलुषाम्भासि - कलुष + अम्भासि
ऋषयस्त्ववगाहन्ते - ऋषयः + तु + अवगाहन्ते
आदित्यमुपतिष्ठन्ते - आदित्यम् + उपतिष्ठन्ते
नियमादूर्ध्वबाहवः - नियमात् + ऊ ख़बाहवः
विशालाक्षि - विशाल + अक्षि
सृजभिरभितः - सृजद्भिः + अभितः
क्वचिन्मणिनिकाशोदाम् - क्वचित् + मणिनिकाश + उदाम्
सिद्धजनाकीर्णाम् - सिद्धजन + आकीर्णाम्
तांश्चातिवल्गुवचसः - ताम् + च + अतिवल्गुवचसः
मन्दाकिन्याश्च - मन्दाकिन्याः + च
पुरवासाच्य - पुरवासात् + च
अभ्यासः मौखिकः
1. एकपदेन उत्तरं वदत -
(क) अस्मिन् पाठे का नदी वर्णिता अस्ति ?
उत्तर-मन्दाकिनी।
(ख) मन्दाकिनी कस्य नलिनी इव सर्वतः राजते ?
उत्तर-राजराजस्या
(ग) मन्दाकिनी नदी के अवगाहन्ते ?
उत्तर-ऋषयः।
(घ) रामः मन्दाकिनीम् नीं कां दर्शयति ?
उत्तर-सीता
(ङ) मन्दाकिनी वर्णनं कुतः सङ्ग्रहीतम् अस्ति ?
उत्तर-वाल्मीकि रामायणात्।
(च) मुनयः कम उपतिष्ठन्ते ?
उत्तर-आदित्यं।
(छ) कीदृशानि तीर्थानि रतिं सजानयति ?
उत्तर-रमणीयानि।
2. श्लोकांशं योजचित्वा पूर्ण श्लोकं वदत (क) जटाजिनधरा काले ...........
ऋषयस्त्ववगाहन्ते ............
उत्तर-जटाजिनधरा काले वल्कलोतर बाससः ।
ऋषयस्त्ववगाहन्ते नदीं मन्दाकिनी प्रिये ।।
(ख) दर्शनं चित्रकूटस्य ...........
............... मन्ये तव च दर्शनात्॥
उत्तर- दर्शनं चित्रकूटस्य मन्दाकिनीश्च शोभने ।
अधिकं पुरवासाच्च मन्ये तव च दर्शनात्।।
अभ्यासः लिखितः
1. एकपदेन उत्तरं लिखत -
(क) मन्दाकिनी नदी कस्य पर्वतस्य. निकटे प्रवहित ?
उत्तर-चित्रकूट पर्वतस्य।
(ख) नृत्यति इव कः प्रतिभाति ?
उत्तर-पर्वतः।
(ग) साम्प्रतं कैः पीतानि जलानि कलुषितानि ?
उत्तर-मृगयूथनिपीतानि।
(घ) ऊर्ध्वववाह्वः के सन्ति ?
उत्तर-मुनयः।
(ङ) विशालाक्षि इति कस्याः कृते सम्बोधनम् ?
उत्तर-सीतायाः।
2. पूर्णवाक्येन उत्तरं वदत -
(क) हँस सारससेविता विचित्रपुलिना च का?
उत्तर-हँस सारससेविता विचित्रपुलिना च मन्दाकिनी।
(ख) संशितव्रताः मुनयः किं कुर्वन्ति ?
उत्तर-संशितव्रताः मुनयः उर्ध्ववाहवः नियमात् आदित्यं उपतिष्ठते।
(ग) श्रीरामः मन्दाकिन्यां पोप्लूयमानान् कान् दर्शयति ?
उत्तर-श्रीरामः मन्दाकिन्यां पोप्लूयमानान् अलमध्यगान दर्शयति।
(घ) सिद्धकिरणां मन्दाकिनीम् का पश्यति ?
उत्तर-सिद्धिकिरणां मन्दाकिनीम् सीता पश्यति।
(ङ) “मन्दाकिनी वर्णस्य" रचयिता कः ।
उत्तर-मन्दाकिनी वर्णस्य रचयिता वाल्मीकिः अस्ति।
(च) “मन्दाकिनी वर्णस्य" रामायणस्य कस्मिन् काण्डे अस्ति ?
उत्तर-मन्दाकिनी वर्णस्य रामायणस्य अयोध्याकाण्डे. अस्ति।
(छ) शुभागिरः के निष्कूजन्ति ?
उत्तर-शुभागिरः द्विजाः निष्कूजन्ति।
3. रिक्त स्थानानि पूरयत -
(क) विचित्रकुलिनां रम्या ...........................।
. ....................... पश्य मन्दाकिनी नदीम्॥
उत्तर-विचित्रकुलिनां रम्यां हंससारससेविताम् ।।
कुसुमैरूपसम्पन्ना पश्य मन्दाकिनी नदीम्॥
(ख) क्वचिन्मणिनिकाशोदां क्वचिद् ............... ।
क्वचित् ..................... पश्य ................... ॥
उत्तर- क्वचिन्मणिनिकाशोदां क्वचिद् पुलिनशालिनीम् ।
क्वचित् सिद्धिजनाकीर्णा पश्य मन्दाकिनी नदीम् ।।
4. उदाहरणमनुसृत्य कोष्ठगत पदानां समुचितं प्रयोगं कृत्वा वाक्यानि योजयतः -
उदाहरणम् - मन्दाकिनी नदी हँससारससेविता कुसुमैरूपसम्पन्ना....... (नव्या, रम्या, भव्या)
उत्तरम् - मन्दाकिनी नदी हँससारससेविता कुसमैरूपसम्पन्ना रम्या अस्ति।
प्रश्नाः
(क) सीता रामचन्द्रस्य ................।(माता, प्रिया, पुत्री)
उत्तर-प्रिया
(ख) जटाजिनधराः ऋषयः ................. अवगाहनते।(पद्माम्, मन्दाकिनीम्, यमुनाम्)
उत्तर-मन्दाकिनीम्
(ग) संशितव्रता मुनयः ......... उत्तिष्ठन्ते। (राम, आदित्यं, कृष्णं)
उत्तर-आदित्यं
(घ) नदीम् अभितः ..................... प्रनृत इव। (धरा, वृक्षः, पर्वतः)
उत्तर-पर्वतः ।
(ङ) दुर्वाशात् ............. दर्शनम् अधिक महत्त्वपूर्णम्।(ग्रामस्य, वनस्य, चित्रकूटस्य)
उत्तर-चित्रकूटस्य
(च) पक्षिणः पर्यायवाची .......... .... अस्ति। (रवः, द्विजः, नगः)
उत्तर-द्विजः
(छ) अस्मिन् पाठे रथाङ्गाह्वयना .................. खगस्य पर्यायवाची अस्ति।(कपोतस्य, चक्रवाकस्य, काकस्य)
उत्तर-चक्रवाकस्य