अष्टमः पाठः
कर्मवीर कथा

(पाठेऽस्मिन् समाजे दलितस्य ग्रामवासिनः पुरुषस्य कथा वर्तते। कर्मवीरः असौ निजोत्साहन विद्यां प्राप्य महत्पदं लभते, समाजे च सर्वत्र सत्कृतो भवति। कथाया मूल्यं वर्तते यत् निराशे न स्यात्, उत्साहेन सर्व कर्तुं प्रभवेत्।)
अर्थ-इस पाठ में समाज में दलित ग्रामवासी पुरुष की कथा है। वह अपने उत्साह से विद्या प्राप्त कर महानं पद को प्राप्त करता है, और समाज में सभी जगह सत्कृत होता है। कथा में यह मूल्य स्थापित है कि निराशा न होवे उत्साह से सब कुछ किया जा सकता है।
अस्ति बिहारराज्यस्य दुर्गमप्राये प्रान्नरे 'भीखनटोला' नाम ग्रामः। निवसन्नि स्म तत्रातिनिर्धनाः शिक्षाविहीनाः क्लिष्टजीवनाः जनाः। तेष्वेवान्यतमस्य जनस्य परिवारे ग्रामाद् बहिःस्थितायां कुट्यां न्यवसत्। कुटी तु जीर्णप्रायस्वात् परिवारजनान् आतपमात्राद् रक्षति, न वृष्टेः। परिवारे स्वयं गृहस्वामी, तस्य मायी तयोरेकः पुत्रो कनीयसी दुहिता चे त्यासन्।
अर्थ-बिहार राज्य के दुर्गम क्षेत्र में भीखनटोला नामक ग्राम है। वहाँ के निवासी अति निर्धन, शिक्षा विहीन एवं कठोर जीवन जीने वाले लोग थे। उनमें अत्यन्त ही निम्न लोगों का परिवार गाँव से बाहर स्थित कुटिया में रहता था। कुटिया भी अत्यन्त जीर्ण थी। वह परिवार के लोगों की केवल धूप से रक्षा करती थी वर्षा से नहीं। परिवार में स्वयं गृहस्वामी, उनकी माता, उनका एक पुत्र और छोटी पुत्री थी।
तस्माद् ग्रामात् क्रोशमात्र दूर प्राथमिको विद्यालयः प्रशासनेन संस्थापितः। तत्रैको नवीनदृष्टिसम्पन्नः सामाजिकसाम रस्यरसिकः शिक्षकः सभागतः। भीखनटोलां दष्टुभागतः स' कदाचित् खेलनरतं दलितबालकं विलोक्य तस्यापातरमणीयेन स्वभावेनाभिभूतः। शिक्षक बालकयेनं स्वविद्यालयमानीय स्वयं शिक्षितुमारभत। बालकोऽपि तस्य शिक्षणशैल्याकृष्टः शिक्षकर्म जीवनस्य परमा गतिरिति मन्यमाने निरभरमध्य वसायेन विद्याधिगमाय निरतोऽभवत्। क्रमशः उच्च विद्यालयं गतस्तस्यैव शिक्षकस्याध्यापनन स्वाध्यवसायेन च प्राथभ्य प्राय। 'छात्राणामध्ययनं तपः' इति भूयोभूयः स्वविद्यागुरुणोयदिष्टोऽ सौ बालकः चित्रोराभावेऽपि छात्रवृत्त्या कनीयश्छात्राणां शिक्षणलब्धेन धनेन च नगरगते महाविद्यालय प्रवेशभलभत।
अर्थ-ठस ग्राम से कोश मात्र की दूरी पर प्रशासन के द्वारा प्राथमिक विद्यालय स्थापित हुआ। वहाँ एक नवीन विचार (दृष्टि) सम्पन्न सामाजिक सामंजस्य रसिक शिक्षक आये। भीखनटोला को देखने आये उन्होंने कभी खेलने में लगे हुए दलित बालक को देखकर तत्क्षण सहज आकर्षक ठसके स्वभाव से प्रभावित हुए। शिक्षक उस बालक को अपने विद्यालय में लाकर स्वयं शिक्षा देना प्रारम्भ किया। बालक भी उनके शिक्षणशैली से आकृष्ट, शिक्षाकर्म को ही जीवन की परमगति मानते हुए अपने परिश्रम से शिक्षा लाभ के लिये तत्पर हो गया। क्रमशः उच्च विद्यालय में गया हुआ ठस शिक्षक के अध्यापन के द्वारा एवं अपने परिश्रम से प्रथम स्थान प्राप्त किया। छात्रों के लिये अध्ययन तप है इसे बार-बार अपने विद्या गुरु के द्वारा उपदेश प्राप्त वह बालक पिता के धन के अभाव में भी छात्रवृति से और कनीय छात्रों के शिक्षण से प्राप्त धन से नगर में जाकर महाविद्यालय में प्रवेश लिया।
तत्रापि गुरुणं प्रियः सन् सततं पुस्तकालये स्ववर्गे च सदावहितचेतसा अकृतकालक्षेपः स्वाध्यायनिरतोऽभूत्। महाविद्यालयस्य पुस्तकागारे बहूनां विषयाणां पुस्तकानि आत्मसाढ्सी कृतवान्। तत्र स्नातकयरीक्षायां विश्वविद्यालये प्रथमस्थानानमवाय्य स्वमहाविद्यालयस्य ख्यातिमवर्धयत्। सर्वत्र रामप्रवेशराम इति शब्दः श्रुयते स्म नगरे विश्वविद्यालय परिसरे घ। नाजानतां पितरावस्य विद्याजन्यां प्रतिष्ठाम्।
अर्थ-वहाँ भी गुरुओं का प्रिय होता हुआ सदैव पुस्तकालय में और अपने वर्ग में सावधान मन से समय न गवाते हुए अपने अध्ययन में संलग्न हो गया। महाविद्यालय के पुस्तकालय में बहत विषयों के पुस्तकों को आत्मसात् उन्होंने किया। वहाँ स्नातक परीक्षा में विश्वविद्यालय में प्रथम स्थान प्राप्त कर अपने महाविद्यालय का ख्याति बढ़ाया। सभी जगह नगर में और विश्वविद्यालय परिसर में राम प्रवेश राम यह शब्द सुनाई पड़ रहा था। न जानते हुए इसके माता पिता विद्याजन्य प्रतिष्ठा को प्राप्त हुए।
वर्षाभरेऽ सौ केन्द्रीयलोकसेवापरीक्षायामपि स्वाध्यवसायेन व्यापकविषयज्ञानेन च उन्नतं स्थानमवाप। साक्षात्कोर च समितिसद्स्यास्तस्य व्यापकेन ज्ञानेन, तत्रापि तादृशे परिवार परिवेशे कृतेन श्रमेणाभ्यासेन च परं प्रीताः अभूवन्।
अर्थ-वर्ष भर बाद इन्होंने केन्द्रिय लोक सेवा परीक्षा में भी अपने परिश्रम से और व्यापक विषय ज्ञान से ऊंचे स्थान को प्राप्त किया। साक्षात्कार समिति के सदस्य उनके व्यापक ज्ञान से वहाँ भी उसी तरह पारिवारिक परिवेश में किये परिश्रमपूर्ण अभ्यास से अत्यन्त प्रसन्न हुए।
अद्य रामप्रवेशरामस्य प्रतिष्ठा स्वप्रान्ते केन्द्र प्रशासने च प्रभूता वर्तते। तस्य प्रशासनक्षमतं संकटकाले च निर्णयस्य सामर्थ्य सर्वेषामावर्जक वर्तते। नूनभसौ कर्मवीर व्यतीत बाधाः प्रशासनकेन्दे लोकप्रियः संजातः। सत्यमुक्तम् - उद्योगिनं पुरुषसिंहमुपैति लक्ष्मीः।
अर्थ-आज राम प्रवेश राम की प्रतिष्ठा अपने प्रांत में केन्द्र प्रशासन में बहुत अधिक है। उनकी प्रशासन क्षमता और संकटकाल में निर्णायक सामर्थ्य सभी को आर्कषित करता है। निश्चय ही यह कर्मवीर बाधा को पार करके केन्द्र प्रशासन में लोकप्रिय हुआ। सत्य ही कहा गया है- परिश्रमी सिंह पुरुष ही लक्ष्मी को प्राप्त करता है।
अभ्यासः मौखिकः
1. एकपदेन उत्तर वदत -
(क) कर्मवीरः कः अस्ति ?
उत्तर-राम प्रवेश रामः
(ख) बिहारप्रान्तस्य दुर्गमप्राये प्रान्तरे कः ग्रामः अस्ति ?
उत्तर-भीखनटोला
(ग) 'भीखनटोला' ग्रामे शिक्षकः कं दृष्टवान् ?
उत्तर-दलित बालक
(घ) कर्मवीरः रामप्रवेशः कुत्र उन्नतं स्थानां प्राप्तवान् ?
उत्तर-केन्द्रीय लोक सेवा परीक्षायां
(ङ) कस्य विषयस्य विशिष्टाङ्गैः कर्मवीरः उन्नतं स्थानमवाप ?
उत्तर-व्यापक विषयज्ञानस्य
अभ्यासः लिखितः
1. एकपदेन उत्तरं लिखत -
(क) रामप्रवेशस्य ग्रामस्य नाम किम् अस्ति ?
उत्तर-भीरवनटोला
(ख) भीखनटोलां दष्टुं कः आगतः ?
उत्तर-शिक्षकः
(ग) बालकः कस्य
उत्तर-शिक्षकस्य
(घ) स्नातकपरीक्षायां प्रथमस्थानां प्राप्य कस्य ख्यातिमवर्धयत् ?
उत्तर-स्वविद्यालयस्य
(ङ) उद्योगिनं पुरुषसिंहम् का उपैति ?
उत्तर-लक्ष्मी
2. पूर्णवाक्येन उत्तरं लिखत -
(क) 'भीखनटोला' ग्रामः कुत्र अस्ति ?
उत्तर-भीरवनटोला ग्रामः विहार राज्ये अस्ति।
(ख) प्राथमिकविद्यालये कीदृशः शिक्षकः समागतः ?
उत्तर-प्राथमिक विद्यालये नवीन दृष्टि सम्पन्नः सामाजिक सामंजस्य रसिकः शिक्षकः समागतः।
(ग) शिक्षकः कं शिक्षितुमारभत ?
उत्तर-शिक्षकः बालकं शिक्षितुं आरभत।
(घ) रामप्रवेशः कस्यां परीक्षायाम् उन्नतं स्थानमवाप ?
उत्तर-रामप्रवेशः स्नातक परीक्षयां उन्नतं स्थानं अवाप।
(ङ) कयोः अर्थाभावेऽपि रामप्रवेशः महाविद्यालये प्रवेशमलभत ?
उत्तर-पितरौ अर्थामावेऽपि राम प्रवेशः महाविद्यालये प्रवेशमलभत।
(च) साक्षात्कारे समितिसदस्याः किमर्थ प्रीताः अभवन् ?
उत्तर-साक्षात्कारे समिति सदस्याः व्यापकेनज्ञानेन तत्रापि ताद्वशे परिवार परिवेशे कृतेन श्रमेणाभ्यासेन च परं प्रीताः अभवन।
(छ) रामप्रवेशस्य प्रतिष्ठा कुत्र-कुत्र दृश्यते ?
उत्तर-रामप्रवेशस्य प्रतिष्ठा नगरे महाविद्यालये च दृश्यते।
(ज) लक्ष्मीः कीदृशंजनम् उपैति ?
उत्तर-लक्ष्मीः उद्योगिनं सिंह पुरुषं उपैति।
3. उदाहरणम् अनुसत्य रक्षति/त्रायते क्रियापदस्य प्रयोगं कृत्वा मञ्जूषातः पदानि चित्वा, तत्र समुचितविभक्तिं संयोज्य सप्तवाक्यानि रचयतः -
उदाहरणम् - (क) गृहं सूर्यस्य आतपात् मेघस्य वर्षणात् च त्रायते।
(ख) पिता पुत्रं विनात् रक्षति।
पद्मजा, देवदत्तः, रमेशः, करीमः, शैलेशः, दिव्येशः, शत्रुः, पवनः, वेगः, रोगः, वैद्यः, चौरः, प्रहरी, सैनिकः, देशः, आतङ्कवादी, लुण्ठकः, धर्मात्मा, पापम्, सज्जनः, दोषः
उत्तर- 1. रमेशः चौरात् त्रायते।
2. वैद्यः रोगात् त्रायते।
3. सैनिक: आतंकवादिनः रक्षति।
4. देवदत्तः करीमं पापात् रक्षति।
5. वस्त्रं पवनस्य वेगात् रक्षति।
6. धर्मात्मा सज्जनान् दोषात् त्रायते।
7. प्रहरी गृहम् चौरात् रक्षति।
4. निम्नाङ्कितानां समस्तपदानां विग्रहं कृत्वा समासनामानि लिखत।
(क) अकृतकालक्षेपः (ख) विद्यालयः - (ग) पुस्तकागारम् (घ) स्नातकपरीक्षायाम् (ङ) दलितबालकम् (च) क्लिष्टजीवनाः (छ) नवीनदृष्टिसम्पन्न (ज) सामाजिकसामरस्यसम्पन्न (झ) स्वाध्यायनिरतः । (अ) पितरौ
उत्तर- पद. ... समास विग्रह.......समास नाम
(क) अकृतकालक्षेपः न कृतः कालस्य क्षेपः येन, सः - बहुब्रीहि
(ख) विद्यालयः . विद्यायाः आलयः - षष्टी तत्पुरुष
(ग) पुस्तकागारम् । पुस्तकानाम् गारम् - षष्टी तत्पुरुष
(घ) स्नातकपरीक्षायाम् । स्नातकस्य परीक्षायाम् - षष्टी तत्पुरुष
(ङ) दलितबालकम् । दलितश्चासौ बालकः तम् - कर्मधारय
(च) क्लिष्टजीवनाः क्लिष्टं जीवनं यस्य ते - बहुब्रीहि
(छ) नवीनदृष्टिसम्पन्न नवीन दृष्टि तथा सम्पन्नः - तृतीया तत्पुरुष
(ज) सामाजिकसामरस्यसम्पन्न सामाजिके सामंजस्य सम्पन्नः - सप्तमी तत्पुरुष
(झ) स्वाध्यायनिरतः स्वाध्याये निरतः - सप्तमी तत्पुरुष
(ञ) पितरौ माता च पिता च - द्वन्द्व
5. पठितपाठम् अनुसृत्य निम्नलिखितपदानां पर्यायरूपाणि लिखतः -
(उदाहरणम् - पुस्तकालयः - पुस्तकारागारम्)
(क) कठिनजीविताः
(ख) अकृतसमयनाशः
(ग) क्षमता
(घ) जनप्रियः
(ङ) आकर्षकम्
(च) संलग्नः
(छ) परिश्रमः
(ज) धनाभावः
(झ) सावधानमनसा
(ञ) सद्यः आकर्षकेण
उत्तर- (क) कठिनजीविताः -क्लिष्टजीवनाः
(ख) अकृतसमयनाशः - अकृतकालक्षेपः
(ग) क्षमता - सार्मथ्य
(घ) जनप्रियः - लोकप्रियः
(ङ) आकर्षकम् - आर्वजकम्
(च) संलग्नः - तत्परः
(छ) परिश्रमः - अध्यवसाय
(ज) धनाभावः - अर्थाभावः
(झ) सावधानमनसा - एकाग्र चेतसा
(ञ) सद्यः आकर्षकेण - शीघ्र आर्वजकेण