षोडशः पाठः
 कन्यायाः पतिनिर्णयः 

कस्मिंश्चित् ग्रामे कश्चन पण्डितः निवसति स्म।
शब्दार्थ-कस्मिंश्चित् = किसी। ग्रामे = गाँव में । कश्चन = कोई ।
अर्थ-किसी गाँव में कोई पण्डित रहता था।
 तस्मिन् ग्रामे सः सर्वमान्यः आसीत्।
शब्दार्थ-तस्मिन् =उस । सर्वमान्यः = सबका आदरणीय ।
अर्थ-उस गाँव में वह सबका आदरणीय था।
 तस्य एका सर्वगुणसम्पन्ना कन्या आसीत्। 
शब्दार्थ-तस्य = उसे ।
अर्थ-उसे एक सर्वगुणसम्पन्न पुत्री थी।
आशैशवात् अतीव स्नेहसमादरसहिततया सा वर्धिता आसीत्।
शब्दार्थ-आशैशवात् = बचपन से ही। वर्धिता= बड़ी हुई, बढ़ी ।
अर्थ-बचपन से ही वह बड़े लाड-प्यार से पाली-पोषी गई थी।
 क्रमशः तस्याः वयोवृद्धिः अभवत्। 
शब्दार्थ-वयोवृद्धिः = उम्र बढ़ी।
अर्थ-धीरे-धीरे उसकी उम्र बढ़ी।
तस्याः परिणयार्थं बहवः प्रस्तावाः आगताः। 
शब्दार्थ- परिणयार्थ = विवाह के लिए। बहवः = अनेक ।
अर्थ-  उसकी शादी के लिए अनेक प्रस्ताव आए।
किन्तु उच्चाकाङ्क्षिणी सा कन्या प्रतिज्ञाबद्धा आसीत् यत् सर्वे यं प्रशंसन्ति यश्च शक्तिशाली भवति, तमेव अहं वृणोमि इति।
शब्दार्थ- उच्चाकाक्षिणी = बड़ी आकांक्षा वाली । सर्वे =सभी । यं = जिनको । तमेव =उसे ही । वृणोमि = वरण करूँगी।
अर्थ- लेकिन महत्त्वाकांक्षी उस कन्या की प्रतिज्ञा थी कि वह उसी को वरण करेगी, जिनकी सभी प्रशंसा करते हैं तथा जो सर्वशक्तिमान् है।
एकदा तस्य राज्यस्य महाराजः हस्तिपृष्ठ समारुह्य तद्ग्रामाभ्यन्तरं समागतः। 
शब्दार्थ-हस्तिपृष्ठं = हाथी की पीठ पर । समारूह्य = बैठकर । समागताः =आए ।
अर्थ-एकबार उस राज्य के राजा हाथी पर बैठकर उस गाँव आए।
पण्डितस्य कन्या राजानम् अपश्यत्।
शब्दार्थ-अपश्यत् = देखा ।
अर्थ- पंडित की पुत्री ने राजा को देखा।
 समीपस्थाः सर्वे ग्रामवासिनः तत्र आगत्य राजानं नमस्कृतवन्तः।
शब्दार्थ-  ग्रामवासिनः = गाँव के लोग । नमस्कृतवन्तः = नमस्कार किया।
अर्थ- गाँव के सारे लोग उनके पास जाकर उन्हें नमस्कार किया।
उच्चाकाक्षिणी सा कन्या ज्ञातवती यद राजा एव महाशक्तिशाली न्यायवाश्च शत।
शब्दार्थ-ज्ञातवती = समझी। न्यायवांश्च = और न्यायी ।
अर्थ-महत्त्वाकांक्षिणी उस कन्या ने सोचा कि राजा ही सर्वशक्तिमान् तथा न्यायी है।
 अतः सा मनसि एव तं पतिम् अचिन्तयत्।
शब्दार्थ-मनसि = मन में।
अर्थ-इसलिए उसने उन्हें मन से पति मान लिया।
यदा महाराजः स्वकर्तव्यं समाप्य हस्तिपृष्ठं समारुह्य राजधानी प्रत्यगच्छत् तदा कन्या आप तम अनुसत्य गतवती।
शब्दार्थ-यदा = जब । समाप्य = समाप्त करके । प्रत्यगच्छत् = लौटा। अनुसत्य = पीछा करती हुई, पीछे-पीछे ।
अर्थ- जब महाराज अपना काम समाप्त करके हाथी पर सवार होकर राजधानी को लौटे तब कन्या भी उनके पीछे-पीछे चल पड़ी।
 पथि महाराजः स्वस्य गुरुम् अपश्यत्।
शब्दार्थ-पथि = राह में । स्वस्य =अपने ।
अर्थ-राह में राजा ने अपने गुरु को देखा।
 सः गुरुः साधुवषधारा आसात्। 
अर्थ-वह गुरु साधुवेश में था।
त दृष्ट्वा राजा सहसा हस्तिपृष्ठाद् अवतीर्य सद्गुरोः चरणस्पर्शम् अकरोत्।
शब्दार्थ-अवतीर्य = उतरकर ।
अर्थ-उनको देखकर राजा हाथी से उतर कर अपने गुरु का चरण स्पर्श किया।
 पण्डितस्य कन्या एतत् दृष्ट्वा अचिन्तयत यद वस्तुतः राजा नैव सर्वश्रेष्ठव्यक्तिः तदपेक्षया तस्य गरुः एव श्रष्ठः आस्त, य: साधुवेषधारी इति।
शब्दार्थ-दृष्ट्वा = देखकर । वस्तुतः = वास्तव में ।
अर्थ-  पंडितजी की कन्या ने यह देखकर सोचा कि राजा की अपेक्षा उसका गुरु ही सर्वश्रेष्ठ या महान् व्यक्ति है।
 अतः सा राजानं विहाय साधोः अनुसरणं कुर्वती वनं गतवती। किञ्चिदूरं गतौ तौ शिवमान्दरम् एक प्रविष्टवन्तौ।
शब्दार्थ- राजानं = राजा को । विहाय = छोड़कर । अनुसरणं = पीछा करती हुई। प्रविष्टवन्तौ = प्रवेश कर गए।
अर्थ-इसलिए उसने राजा का पीछा करना छोड़कर साधु के पीछे-पीछे वन चली गई। कुछ दूर जाने पर दोनों ने एक शिवमंदिर देखा।
 तत्र महादेवस्य मूर्तेः पुरतः साधुगुरुः दण्डवत् प्रणामम् अकरोत्।
शब्दार्थ-मूर्तेः = मूर्ति के।
अर्थ- वहाँ महादेव की मूर्ति के सामने दण्डवत् होकर प्रणाम किया।
 पण्डितकन्या एतद् दृष्ट्वा चिन्तितवती यत् साधोरपि परतरः अस्ति देवाधिदेवः अयं महादेवः शिवः इति।
शब्दार्थ-परतरः = बढकर ।
अर्थ- पंडितजी की कन्या ने यह देखकर सोचा कि साधु से भी बढ़कर यह महादेव शिव है।
अतः सा महादेवमेव पतिं भावयन्ती तस्मिन् एव मन्दिरे वासं कृतवती। 
अर्थ-इसलिए उसने महादेव को ही अपना पति मानकर उस मंदिर में रहने लगी।
किञ्चित्कालानन्तरं कश्चन कुकुरः तत् मन्दिरम् आगत्य महादेवस्य पुरतः स्थापितं नैवेद्यं तस्य पार्श्वस्थं प्रसादं च खादितवान्।
शब्दार्थ-  पुरतः = सामने। स्थापितं = रखा हुआ। पावस्थं = समीप। खादितवान् = खा गया।
अर्थ-कछ समय के बाद कोई कुत्ता उस मंदिर में आकर शिव की मूर्ति के समीप रखे प्रसाद को खा गया।
एतत् दृष्ट्वा पण्डितस्य कन्या अचितन्तयत् यत् एषः कुक्कुरः एव महादेवात् अपि श्रेष्ठः, भगवतः महोदवस्य विषये अन्यः को वा एतादृशं व्यवहारं कर्तुं समर्थः स्यात् इति।
शब्दार्थ-एतत् = यह । एषः = यह । एव = ही। महादेवात् = महादेव से। को- . कौन। अन्यः = दूसरा। एतादृशं = इस तरह का। कर्तुं = करने के लिए। स्यात = है।
अर्थ-यह देखकर पंडित की कन्या ने सोचा कि यह कुत्ता ही महादेव से भी श्रेष्ठ है। भगवान महादेव के साथ इस तरह का व्यवहार करने की शक्ति किसमें है।
 अतः सा मन्दिरवासं परित्यज्य तं कुक्कुरं अनुसृतवती।
शब्दार्थ-परित्यज्य = त्यागकर ।
अर्थ-इसलिए वह मंदिर में रहना छोड़कर कुत्ते के पीछे चल पड़ी।
 सः कुक्कुरः तु धावन् गत्वा कस्यचिद् ग्रामस्य पण्डितस्य गृहं प्रविष्टवान्। 
शब्दार्थ- धावन = दौड़ते हुए। प्रविष्टवान् = प्रवेश किया।
अर्थ-वह कुत्ता दौड़ता हुआ किसी पंडित के घर में घुस गया।
पण्डितस्य सुकुमारः तरुणः पुत्रः गृहस्य पुरतः पीठस्य उपरि उपविश्य चिन्तारतः आसीत्।
शब्दार्थ-पीठस्य उपरि पीढ़ा के ऊपर । उपविश्य = बैठकर । चिन्तारतः = चिन्तित ।
अर्थ-पंडित का सुकुमार जवान पुत्र घर के आगे पीढ़ा पर बैठा चिन्तामग्न था।
 कुक्कुरः तस्य पार्वं गत्वा सस्नेहं तस्य पादलेहनम् आरब्धवान् एतद् दृष्ट्वा पण्डितस्य पुत्री चिन्तितवती यत् पण्डितस्य युवकपुत्रः एव एतावता मया दृष्टेभ्यः सर्वेभ्यः अपि श्रेष्ठः।
शब्दार्थ-  पादलेहनम् = पैर चाटने लगा। मया दृष्टेभ्यः = मेरी दृष्टि से।
अर्थ-कुत्ता उसके पास जाकर प्रेम से उसके पैर को चाटने लगा। यह देखकर पंडित की पुत्री ने सोचा कि पंडित का युवक पुत्र ही मेरी दृष्टि में सबसे श्रेष्ठ है।
 अतः एषः एव मम पति भवितुं योग्यः अस्ति इति।
शब्दार्थ-भवितुं = होने।
अर्थ- यही मेरा पति होने के योग्य है।
अन्ततोगत्वा पण्डितस्य पुत्रेण सह तस्याः पण्डितकन्यायाः परिणयः अभवत्।
शब्दार्थ-परिणयः = विवाह ।
अर्थ-अन्त में, पंडित के पुत्र के साथ उस पंडित की पुत्री का विवाह हुआ।
 एवम् उच्चाकाक्षिण्याः तस्याः कन्यायाः मनसः इच्छा परिपूर्णतां गता। 
शब्दार्थ-एवम् = इस प्रकार।
अर्थ- इस प्रकार महत्वाकांक्षिणी कन्या की मनोकामना पूरी हुई।
सा सुखेन दीर्घकालं यावत जीवनम अयापयत्।
शब्दार्थ-अयापयत् = बिताया।
अर्थ-वह सुखपूर्वक दीर्घकाल तक जीवन-यापन करती रही।

अभ्यासः
 प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1. अनया कथया कः संदेशः प्राप्यते ?
उत्तर-उच्चाकांक्षया जीवनम् सदा सुखी भवति इति संदेशः प्राप्यते।
प्रश्न 2. पण्डितकन्या अन्ततः कं पतिरूपेण स्वीकृतवती ?
उत्तर-पण्डितस्य कन्या अन्ततः पण्डितस्य सुकुमार युवापुत्रं पतिरूपेण स्वीकृतवती।
प्रश्न  3. सा कन्या कीदृशी आसीत ?
उत्तर-सा कन्या उच्चाकांक्षिणी आसीत्।