एकविंशतिः पाठः
भारतभूषा सस्कृतभाषा

भारतभूषा संस्कृतभाषा
विलसतु हृदये हृदये।
संस्कृतिरक्षा राष्ट्रसमृद्धिः
भवतु हि भातरदेशे।
श्रद्धा महती निष्ठा सुदृढ़ा
स्यान्नः कार्यरतानां 
स्वच्छा वृत्तिर्नव उत्साहो
यत्नो विना विरामम् ।
न हि विच्छित्तिश्चित्तविकारः
पदं निधेयंस्ततम् .
सत्यपि कष्टे विपदि कदापि
वयं न यामो विरतिम् ।।1।।
शब्दार्थ-भारतभूषा = भारत की शोभा (गौरव)। विलसतु = निवास करें। भवतु = हो। भारतदेशे = भारतदेश में । महती = अपार । स्यात् = हो । नः = हमारा। स्वच्छा = पवित्र । वृत्तिः = पेशा। विरामम् = आराम। विच्छित्तिश्चित्तविकार = दूषित मनोविकार। निधेयम् = रखें। विपदि = विपत्ति में । कदापि = कभी। यामो = होवें । विरतिम् = विचलित ।
अर्थ-संस्कृत भारत की गौरवपूर्ण भाषा है। यह प्रत्येक भारतीयों के हृदय में आनन्द प्रदान करती रहे । भारत में संस्कृति की रक्षा तथा राष्ट्र का विकास हो। हमें अपनी भाषा तथा राष्ट्र के प्रति अपार श्रद्धा एवं दृढ़ विश्वास कायम रहे और हमारा ध्यान अपने उद्देश्य के प्रति हो। हमारा पेशा (आजीविका) पवित्र तथा हम सब नव उत्साह से अविरल अपने कार्य के प्रति समर्पित रहें। हम दूषित मनोविकार के शिकार न होवें और हमारा कदम बुरे मार्ग पर न बढ़े। सद्मार्ग पर चलते हुए कष्ट भी सहना पड़े तो हम कभी भी उन कष्टों को देखकर विचलित न होवें।
श्वासे श्वासे रोमसु धमनिषु
संस्कृतवीणाक्वणनम्
चेतो वाणी प्राणाः कायः
संस्कृतहिताय नियतम् ।
श्वसिमि प्राणिमि संस्कृतवृद्धयै
नमामि संस्कृतवाणीम्
पुष्टिस्तुष्टिः संस्कृतवाक्तः
तस्मादृते न किञ्चित् ।।2।
शब्दार्थ-श्वासे = साँस में। रोमसु = रोएँ, रोम में। धमनिषु = धमनियों में। वीणाक्वणनम् = वीणा की झंकार । चेतः = हृदय । वाणी = वचन । प्राणाः = प्राण । कायः = शरीर । हिताय = कल्याण के लिये । नियतम् = लगा होना । वृद्धयै = वृद्धि के लिए । नमामि = नमस्कार करता हूँ। पुष्टिः = विकास । तुष्टिः = संतुष्टि । तस्माहते = उसके समान सम्मानित । किञ्चित् = कोई, कुछ।
अर्थ-हमारे प्रत्येक साँस, रोम तथा धमनियों में संस्कृतभाषा रूपी वीणा का झंकार सतत् होता रहे । मन, वचनं तथा कर्म से हम संस्कृत के विकास में सदैव लगे रहें। हमारी हर साँस तथा हमारे प्राण संस्कृत की वृद्धि में लीन रहे । संस्कृत वाणी को नमस्कार करता हूँ। संस्कृत बोलने वालों की वृद्धि हो तथा वह अपने प्रयास से संतुष्टि का अनुभव करें, क्योंकि संस्कृत भाषा के समान कोई भी अन्य भाषा समादृत (सम्मानित) नहीं है।
नाहं याचे हारं मानं
न चापि गौरववृद्धिम् नो
सत्कारं वित्तं पदवीं
भौतिकलाभं कञ्चित् ।
यस्मिन् दिवसे संस्कृतभाषा
विलसेज्जगति समग्रे
भव्यं तन्महददभुतंदृश्यं
काङ्गे वीक्षितुमाशु ।।3।।
शब्दार्थ-नाहं (न + अहम्) = मैं नहीं। याचे = इच्छा करता हूँ। हारं = हार, माला। मानं = सम्मान । गौरववृद्धि = प्रतिष्ठा बढ़ाने की। सत्कारी = स्वागत । वित्तं = धन । पदवी = पद, उपाधि । दिवसे = दिन । विलसेत् = शोभितं । जगति = संसार में । समग्रे = सम्पूर्ण । तन्महददभुतदृश्यं = उस महान् अद्भुत दृश्य को।
अर्थ-मैं न कीमती हार की इच्छा रखता हूँ न सम्मान की तथा गौरव की भी इच्छा नहीं है। मुझे न तो सत्कार की इच्छा है, न धन की, न किसी पदवी (उपाधि) की, साथ ही, किसी भौतिक लाभ की भी इच्छा नहीं है। सिर्फ यही इच्छा है कि संपूर्ण संसार में संस्कृत भाषा का वर्चस्व स्थापित हो, उस भव्य अद्भुत दृश्य को देखने की इच्छा है। 

अभ्यासः
 प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1. अस्य पाठस्य भावार्थं लिखत।
उत्तर-पाठस्य अर्थ पठ।
प्रश्न2. अस्मिन् पाठे कवेः का आकाङ्क्षा अस्ति ?
उत्तर- अस्मिन् पाठे कवेः आकाङ्क्षा अस्ति यत् संस्कृतभाषा भारतीय जनानां हृदये विलसतु तथा समग्रे संसारे संस्कृतस्य प्रयोगं भवतु।
प्रश्न3. आधुनिक भारते संस्कृतस्य कीदृशी स्थिति अस्ति? 
उत्तर-आधुनिक भारते संस्कृतस्य दयनीय स्थिति अस्ति। जनाः उपेक्षाभावेन संस्कृतं दृश्यन्ते । संस्कृतस्य पाठकः वक्तारः च अल्पाः दृश्यन्ते।
प्रश्न4. संस्कृतस्य उन्नतिः केनोपायेन भविष्यति ?
उत्तर-यदा भारतीयाः संस्कृतवाणी वदन्तु तदा संस्कृतस्य उन्नतिः भविष्यति ।