चतुर्दशः पाठः
वणिजः कृपणता

कस्मिंश्चित् ग्रामे कश्चन् वणिक आसीत्।
शब्दार्थ-कस्मिंश्चित् = किसी। ग्रामे = गाँव में। कश्चन् = कोई । वणिकः = व्यापारी ।
अर्थ-किसी गाँव में कोई व्यापारी रहता था।
सः अतीव कृपणः।
शब्दार्थ-अतीव = बहुत। कृपणः = कंजूस।
अर्थ-वह बहुत कंजूस था।
कदाचित् सः वाणिज्य निमित्तं पार्श्वस्थं नगरं गतवान् आसीत्।
शब्दार्थ-कदाचित् = कभी । निमित्तं = उद्देश्य से । पार्श्वस्थं = निकट के ।
अर्थ-कभी वह व्यापार - के उद्देश्य से निकट के गाँव में गया था।
 तत्र वाणिज्यं समाप्य गृहं प्रत्यागतः
शब्दार्थ-समाप्य = समाप्त करके । प्रत्यागतः = लौटा।
अर्थ- वहाँ व्यापार करने के बाद घर लौटा।
सः यदा स्वस्य कोष्ठं पश्यति तदा तेन ज्ञातं यत् तत्र स्थापितः धनस्यूतः एव न आसीत्।
शब्दार्थ- स्वस्य = अपने। कोष्ठं = खजाना। स्थापितः = रखा हुआ। धनस्यूतः = थैला।
अर्थ-वह जब अपने खजाने को देखता है तब उसे लगा कि उसमें रखा गया थैला ही नहीं है।
तस्मिन् दिने वाणिज्यतः प्राप्तानि चतुस्सहस्ररूप्यकाणि तत्र आसन्।
शब्दार्थ-चतुस्सहस्ररूप्यकाणि = चार हजार रुपये।
अर्थ- उसमें व्यापार से प्राप्त चार हजार रुपये थे।
सः सम्यक् स्मृतवान् यत् ग्रामप्राप्तिपर्यन्तमपि कोषे स धनस्यूतः आसीदेव इति ।
शब्दार्थ- सम्यक् = सही रूप में। स्मृतवान् = याद किया।
अर्थ-उसने याद किया कि गाँव आने तक खजाने में थैली (पोटली) थी ही।
अतः ग्रामे एव सः पतितः केनापि प्राप्तः स्यात् इति।
शब्दार्थ-पतितः = गिर गया। केनापि = कोई भी।
अर्थ- इसलिए गाँव में ही गिरा है और किसी को भी मिला होगा।
सः ग्रामप्रमुखस्य समीपं गत्वा तं निवेदितवान् यत् एतद्विषये ग्रामे घोषणा करणीया इति।
शब्दार्थ- गत्वा = जाकर । निवेदितवान् = निवेदन किया। एतद्विषये = इस संबंध में ।
अर्थ-वह गाँव के मुखिया के पास जाकर निवेदन किया कि इस संबंध में गाँव में घोषणा की जाए।
तदनुसारं ग्रामे सडिण्डिमं घोषणा कारिता यत् 'यः तं धनस्यूतम् अन्विष्य आनीय ददाति तस्मै चतुश्शतं रूप्यकाणि पारितोषिकरूपेण दीयन्ते' इति।
शब्दार्थ- सडिण्डिम = ढोल पीटकर । अन्विष्य = खोजकर । आनीय = लाकर । चतुरशतं = चार सौ ।
अर्थ-उसके कथनानुसार ढोल बजाकर घोषणा की गई कि जो उस थैली को खोजकर लाकर देगा, उसे चार सौ रुपये पुरस्कार के रूप में दिया जाएगा।
संयोगेन काचित् वृद्धा तं धनस्यूतं प्राप्तवती आसीत्।
शब्दार्थ-काचित् = कोई ।
अर्थ-संयोग से किसी बूढ़ी को वह थैली मिली थी।
किन्तु भीता सा चिन्तितवती यत् यदि एतं विचारम् अन्यान् वदामि तर्हि जनाः मया एव चौर्यं कृतम् इति चिन्तयन्ति इति।
शब्दार्थ- अन्यान = दूसरों को। चौर्यं = चोरी।
अर्थ-लेकिन भयभीत होकर उसने सोचा कि यदि यह बात दूसरों से कहती हूँ तो वह मुझे ही चोर मान लेगा।
तदा एव सा घोषणां श्रुतवती।
अर्थ-तभी वह घोषणा सनी।
निश्चिन्तभावेन ग्रामप्रमुखस्य समीपं गत्वा तस्मै धनस्यूतं समर्पितवती।
अर्थ-वह शांतचित्त मुखिया के पास जाकर वह थैली उन्हें देते हुए
उक्तवती च यत् देवालयतः आगमनमार्गे मया एषः धनस्यूतः प्राप्तः
शब्दार्थ- देवालयतः = मन्दिर से। आगमनमार्गे = वापस होने पर रास्ते में।
अर्थ-बोला कि मन्दिर से लौटते समय राह में यह थैली मुझे मिली।
मया अत्र किमस्ति इत्यपि न दष्टम।
शब्दार्थ-किमस्ति = क्या है।
अर्थ-इसमें क्या है, यह भी मुझसे नहीं देखा गया है।
घोषणां श्रुत्वा झटिति आगतवती अस्मि
शब्दार्थ- श्रुत्वा = सुनकर । झटिति = शीघ्र ।
अर्थ-घोषणा सुनते ही मैं चली आई हूँ।
एतस्य स्वामिने एतं ददातु इति।
अर्थ-इसके मालिक को यह (थैली) दे दें।
ग्रामप्रमुखः तस्याः सत्यनिष्ठया सन्तुष्टः अभवत्।
शब्दार्थ- तस्याः = उसकी। सत्यनिष्ठया = सत्यनिष्ठा. से।
अर्थ-गाँव का मुखिया उसकी सत्यनिष्ठा से संतुष्ट हो गया।
सः वृद्धाम् अभिनन्द्य तं वणिजम् आनेतुं सेवकं प्रेषितवान्।
शब्दार्थ- अभवत् = हुआ। अभिनन्द्य = अभिनन्दन करके। आनेतुं = लाने के लिए। प्रेषितवान् = भेजा।
अर्थ- उसने बूढ़ी का अभिनन्दन करके उस व्यापारी को लाने के लिए नौकर को भेजा।
एतां वार्ताः ज्ञात्वा नितरां सन्तुष्टः वणिक् धावन् एव तत्र आगतवान्।
शब्दार्थ-नितरां =अत्यन्त । धावन् एव = दौड़ते हुए।
अर्थ-इस बात को जानकर अति प्रसन्न व्यापारी दौड़ता हुआ वहाँ आया।
तस्मै स्यूतं समर्पयन् ग्रामप्रमुखः अवदत्- एषा महोदया धन्यवादास्।
शब्दार्थ-धन्यवादास् = धन्यवाद के पात्र ।
अर्थ- उसको थैली देते हुए मुखिया बोला। यह महोदय धन्यवाद के पात्र है।
इदानीं भवदीयं कर्तव्यम् अस्ति यत् एतस्यै चतुश्शतरूप्यकाणि दातव्यानि इति।
अर्थ- इस समय आपका कर्तव्य है कि इन्हें चार सौ रुपये दे दें।
त अत्वा कृपणः चिन्तितवान्-" मदीयं धनं प्राप्तमेव। तन्मध्ये चतुश्शतरूप्यकाणि कुतः दातव्यानि .....?"
शब्दार्थ- चिन्तितवान् = सोचा। प्राप्तमेव = मिल ही गया।
अर्थ- यह सुनकर कंजूस (व्यापारी) ने सोचा-मुझे तो धन मिल ही गया । इसमें से चार सौ रुपये कैसे दे दें।
केनापि उपायेन तानि अपि सञ्चिनोमि इति। तस्य मनसि एकः उपायः स्फुरितः।
शब्दार्थ-सञ्चिनोमि = सोचता हूँ। मनसि = मन में ।
अर्थ-इसके लिए कोई उपाय निकालता हूँ। - उसके मन में एक विचार आया।
सः तं धनस्यूतं उद्घाट्य सर्वेषां पुरतः धनं गणितवान्। अनन्तरम् उक्तवान् यत्- अस्मिन् धनस्यूते चतुश्शताधिकचतुस्सहस्ररूप्यकाणि आसन्।
शब्दार्थ-उद्घाट्य = खोलकर । सर्वेषां = सबके । पुरतः = सामने । गणितवान् = गिनती की। अनन्तरम् = बाद में । उक्तवान् = बोला ।
अर्थ-उसने उस थैली को सबके सामने खोलकर गिनती की। बाद में बोला कि-इस थैली में चार हजार चार सौ रुपये थे।
इदानीं तु चतुस्सहस्ररूप्यकाणि एव सन्ति।
शब्दार्थ-इदानीं = इस समय ।
अर्थ- अभी इसमें चार हजार रुपये ही हैं ।
अवश्यम् एतया वृद्धया एव तानि रूप्यकाणि स्वीकृतानि सन्ति।
शब्दार्थ- एतया = इसके द्वारा । वृद्धया = बूढ़ी द्वारा।
अर्थ- निश्चय ही इस बूढ़ी द्वारा वे रुपये निकाल लिए गए हैं।
उपायनराशिं सा स्वयमेव स्वीकृतवती अस्ति इति।
शब्दार्थ-उपायनराशि = उपहार की राशि।
अर्थ- उपहार की राशि उसने स्वयं ले लिया है।
वणिजः मिथ्यारोपेण हतप्रभा जाता सा वृद्धा।
शब्दार्थ--मिथ्यारोपेण = झूठे आरोप से । हतप्रभा = उदास । जाता = हो गई ।
अर्थ-बनिया की झूठी बात से वह बूढ़ी उदास हो गई।
दुःखेन सा उक्तवती- भोः, नाहम् असत्यं वदामि। धनस्यूतः न मया उद्घाटितः।
शब्दार्थ- नाहम् = मैं नहीं। असत्यम् = झूठ । वदामि = बोलती हूँ।
अर्थ- दुःखपूर्वक उसने कहा-अरे! मैं झूठ नहीं बोलती हूँ। मैंने थैली नहीं खोली ।
यदि तत् धनं चोरणीयम् इति मम इच्छा स्यात् तर्हि किमर्थम् अत्र आगत्य धनस्यूतं दद्याम् ......" इति।
शब्दार्थ- किमर्थम् = क्यों । दद्याम् = देती ।
अर्थ- यदि उस धन को चुराने की मेरी इच्छा रहती तो मैं क्यों यहाँ आकर थैली देती।
ग्रामप्रमुखः ज्ञातवान् यत् 'अयं वणिक् न केवलं कृपणः, अपि तु असत्यवादी शठः अपि' इति।
शब्दार्थ- शठ = बदमाश ।
अर्थ- मुखिया समझ गया कि यह बनिया सिर्फ कंजूस ही नहीं है बल्कि झूठा तथा शैतान भी है।
अतः सः किञ्चित् विचिन्त्य उक्तवान्- "भवता पूर्वमेव वक्तव्यम् आसीत् यत् धनस्यूते 4,400 रूप्यकाणि आसन् इति" इति।
शब्दार्थ- किञ्चित = कुछ। पूर्वमेव = पहले ही।
अर्थ- इसलिए थोड़ा सोचकर उसने कहा-आपको पहले ही कहना चाहिए था कि थैली में चार हजार चार सौ रुपये थे।
वणिक् उक्तवान्- "अहं विस्मृतवान् तदा" इति।
शब्दार्थ- विस्मृतवान् = भूल गया।
अर्थ- बनिया बोला-मैं तब भूल गया।
एतत् श्रुत्वा ग्रामप्रमुखः क्रोधेन- "एवं चेत् भवान् अस्य धनस्यूतस्य स्वामी नैव। अद्य एव ममापि धनस्यूतः नष्टः। तत्र तु 4000 रूप्यकाणि एव आसन्। अतः एषः मम एव धनस्यूतः" इति उक्त्वा तं धनस्यूतं स्वीकृतवान्।
शब्दार्थ- क्रोधेन = क्रोध से। भवान् = आप । अस्य = इसका। ममापि = मेरा भी ।
अर्थ- यह सुनकर मुखिया क्रोध से (बोला)-इस प्रकार आप इस थैले के स्वामी नहीं हैं। आज मेरा भी थैला खो गया, जिसमें चार हजार रुपये थे। इसलिए यह मेरा थैला है। ऐसा कहकर उसने उस थैले को ले लिया।
स्वीयया दुराशया प्राप्तमपि धनं पुनः हस्तच्युतं ज्ञात्वा सः लुब्ध वणिक् विलापम् अकरोत्।
शब्दार्थ- दुराशया = कठिनाई से। . हस्तच्युतं = हाथ से जाते हुए । लुब्ध = लोभी।
अर्थ-कठिनाई से प्राप्त हुए धन को हाथ से जाते हुए जानकर वह लोभी व्यापारी विलाप करने लगा।

अभ्यासः
प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1. अनया कथया का शिक्षा प्राप्यते ?
उत्तर-अनया कथया शिक्षा प्राप्यते यत्-अति लोभो न कर्तव्यः वा असत्यं नैव वक्तव्यम्।
प्रश्न 2. कृपणता करणीया न करणीया वा?
उत्तर-कृपणता न करणीया।
प्रश्न 3. वणिक् कीदृशः आसीत् ?
उत्तर-वणिक् असत्यवादिनः कृपणः लुब्धकः च आसीत्।
प्रश्न 4. ग्रामप्रमुखः कीदृशः आसीत् ?
उत्तर-ग्रामप्रमुखः न्यायप्रियः यथायोग्यः कर्तारः आसीत्।