दशमः पाठः
संस्कृतेन जीवनम्

1. एहि मित्र हे सुधीर
त्वां विचिन्तये सदा।
इह सखे समं मया
हि खेल नन्द सन्ततम् ।।

शब्दार्थ-एहि = अरे । त्वां = तुमको। विचिन्तये = विचार करना चाहिए, मनन करना चाहिए। सदा = हमेशा। इह = यहाँ । समं = समान । मया = मुझे, मेरे द्वारा । नन्द = आनन्द । सन्ततम् = प्रदान करने वाला।
अर्थ-अरे मित्र सुधीर! तुम्हें हमेशा इस पर विशेष चिन्तन करना चाहिए कि सस्कृत मेरे साथ खेलने जैसा ही आनन्द प्रदान करने वाला है। अर्थात् संस्कृत एक मित्र जैसा आनन्द देनेवाला होता है।

2. संस्कृतेन खेलनम्
कुर्महे सखे चिरम्।
तेन वाग्विवर्धनं
प्राप्नुयाम सत्वरम् ॥

शब्दार्थ-संस्कृतेन = संस्कृत से । खेलनम् = खेल । कुर्महे = करना चाहिए। सखे = मित्र । चिरम् = दीर्घकाल तक। तेन = उससे । वाग्विर्वधनं = बोलने की शक्ति में वृद्धि । प्राप्नुयाम = प्राप्त करते हैं। सत्वरम् = अतिशीघ्र।
अर्थ- अरे मित्र । संस्कृत हमें चिरकाल तक पढ़ना चाहिए। इससे वाचा-शक्ति अतिशीघ्र बढ़ जाती है। तात्पर्य यह कि संस्कृत के गहन अध्ययन से हमारी वाणी में एक विशेष प्रकार की ओजस्विता आ जाती है।

3. संस्कृतेन लेखनं
सर्वबालरंजकम्।
तेन शब्दरूपसिद्धि
-राप्यते सखे वरम् ॥

शब्दार्थ-लेखनं = लिखना चाहिए । सर्व = सारे । बालरंजन = बच्चों को आनंद देने वाला । तेन = उससे । शब्दरूपसिद्धिः = शाब्दिक ज्ञान । आप्यते = प्राप्त होता है।
अर्थ -हे मित्र! सभी बच्चों को संस्कृत में ही लिखना चाहिए, क्योंकि यह प्रसन्नता प्रदान करने वाली भाषा है। इसके अध्ययन से प्रचुर शाब्दिक ज्ञान होता है, अर्थात . शब्दरूपों का सही ज्ञान प्राप्त होता है।

4. संस्कृतेन भाषणं
सर्वगर्वनाशकम्।
तेन रंजिता
भवन्ति सर्वदेवदेवताः ॥

शब्दार्थ- भाषणं = बोलना चाहिए। सर्व = सबका । गर्व = अहंकार । नाशकम् = नष्ट करने वाला। तेज = उससे । रंजिता = प्रसन्न । भवन्ति = होते हैं। सर्वदेव देवता = सारे देवता।
अर्थ-संस्कृत में बोलने से सबका अहंकार नष्ट होता है। सारे देवी-देवता प्रसन्न होते है। यह देवभाषा है, इसलिए सदैव संस्कृत बोलना चाहिए।

5. संस्कृतेन चिन्तनं
सद्गुणाभिवर्धनम् ।
तेन मानसं सखे स्यात्
सदा सुखान्वितम् ॥

शब्दार्थ- चिन्तनं = मनन करना। सदगण = अच्छे गुण । अभिवर्धनम् = वृद्धि हाता है। तन= उससे । मानसं = मन । सखे = मित्र । स्यात = हो। सखान्वितम् = सारे सखों से सम्पन्न ।
अर्थ-अरे मित्र ! संस्कृत के अध्ययन से व्यक्ति में सदगुणों का विकास होता है. क्यांकि ऋषि-मुनियों तथा विद्वानों ने मानव जीवन से संबंधित विषयों का वर्णन (संस्कृत में ही) किया है। इसके अध्ययन से मानसिक शांति के साथ-साथ एक विशेष आनन्द की . प्राप्ति भी होती है।

अभ्यास
प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1. संस्कृतेन कथं जीवनम् अस्ति ?
उत्तर-संस्कृतेन वाग्विवर्धनम् भवति, शब्दस्य रूपस्य सम्यक् ज्ञानम् भवति, देवताः प्रसन्नाः भवन्ति, सद्गुणाः अभिवर्धनम् च भवन्ति । अस्मात् संस्कृतेन मे जीवनम् अस्ति ।
प्रश्न 2. संस्कृत भाषायां वाग्विवर्धनम् केन भवति ?
उत्तर–संस्कृते लेखनेन, पठनेन, भाषणेन, चिन्तनेन च वाग्विवर्धनम् भवति ।
प्रश्न 3. संस्कृतेन लेखनेन, भाषणेन, चिन्तनेन च कानि-कानि भवन्ति ?
उत्तर-संस्कृतेन लेखनेन भाषाशुद्धि :भवति, शब्द-रूपस्य सम्यक् ज्ञानम् भवति, भाषणेन देवताः प्रसन्नाः भवन्ति, वाग्विवर्धन च प्राप्यते तथा चिन्तनेन सद्गुणाः आयान्ति ।