एकादशः पाठः पर्यटनम्

(क) नासिकक्षेत्रम्
महाराष्ट्रदेशे पवित्रायाः गोदावरीनद्याः तीरे विलसति नासिकक्षेत्रम्। शूर्पणखायाः नासिका अत्रैव छिन्ना लक्ष्मणेन इत्यतः स्थानस्यास्य तत् नाम इति वदन्ति अत्रत्याः। नासिक इत्यपि कथ्यमानम् एतत् अनेकैः कारणैः प्रसिद्धम् अस्ति। गोदावर्याः एकस्मिन् पार्वे नासिकनगरं चेत् अपरस्मिन् पार्श्वे अस्ति पञ्चवटीक्षेत्रम्। कुम्भमेलः प्रचलति इति कारणतः नासिकक्षेत्रं प्रयागमिव हरिद्वारमिव पवित्रं मन्यन्तै श्रद्धालवः। द्वादशसु वर्षेषु एकदा प्रचलति अयं कुम्भमेलः। तदा तु क्षेत्रेऽस्मिन् भक्तानां तादृशः महापूरः भवति यत् कुत्रापि पदं निक्षेप्तुमपि स्थलं न लभ्यते। अग्रिमस्य कुम्भमेलस्य निमित्तं गतवर्षादेव सज्जातकार्याणि प्रचलन्ति सन्ति। गोदावरीं द्रष्टुं नदीतीरं गतवता मया विस्मयः प्रापः यतः तत्र जलमेव नासीत्। ततः कारणं ज्ञातं यत् कुम्भमेलस्य निमित्रं नद्याः तटयोः व्यवस्थाः कर्तुम् इदानीं तस्याः प्रवाहः अन्यत्र एव नीतः अस्ति इति। अतः श्रीरामकुण्डनामकात् स्थानात् अनन्तरं नद्याः पात्रं केवलं दृष्टं, न तु जलम्। नैके कर्मकाराः तत्र कार्यनिरताः आसन्।
 शब्दार्थ-देशे = देश में। नद्याः तीरे = नदी के किनारे । विलसति = स्थित है। शूर्पणखायाः = रावण की बहन शूर्पनखा का। नासिका = नाक । अत्रैव = यहीं। छिन्ना = काटी गई। अत्रत्या = यहाँ। इत्यपि = ऐसे भी। कथ्यमानम् = कहने के। गोदावर्णाः = गोदावरी नदी के। पार्वे = समीप । अपरस्मिन् = दूसरी तरफ । कारणतः = कारण से। प्रयागमिव = प्रयाग के समान । श्रद्धालवः = श्रद्धालु । द्वादशसु = बारह वर्षों में । कुत्रापि = कहीं भी। निक्षेप्तुमपि = रखने का भी। सञ्जातकार्याणि = होने वाले कार्यों को। द्रष्टुं = देखने के लिए। गतवता = जाया गया। ज्ञातं = पता चला। नीतः अस्ति = लाया गया। कायनिरता = कार्य में लगा होना।
अर्थ-नासिक क्षेत्र महाराष्ट्र प्रांत में पवित्रतम गोदावरी नदी के तट पर नासिक क्षेत्र स्थित (शोभित) है। यहीं शूर्पणखा की नाक लक्ष्मण द्वारा काटी गई थी, इसीलिए यहाँ के लोग इस क्षेत्र को नासिक कहते हैं। नासिक कहे जाने के आनेक कारण प्रसिद्ध हैं। गोदावरी नदी के एक तरफ नासिक नगर है तो दूसरे तरफ पञ्चवटी का क्षेत्र है। कुम्भ • मेला लगने के कारण इसे श्रद्धालु लोग प्रयाग तथा हरिद्वार जैसा पवित्र मानते हैं। यह . कुंभमेला बारह वर्षों में एक बार यहाँ लगता है। उस समय तो भक्तों की इतनी भीड़ होती है कि कहीं भी पैर रखने की जगह नहीं मिलती है। आने वाले (अगले वर्ष) कुंभ मेले की तैयारी पिछले वर्ष से ही आरंभ होने की परंपरा है। गोदावरी देखने के लिए गया तो उसमें जल नहीं (सूखा) होने के कारण अति आश्चर्य हुआ। इसका कारण ज्ञात हुआ. कि कंभ मेला के उद्देश्य से नदी के दोनों तरफ तटों की व्यवस्था की गई। इस समय नदी की धारा अन्यत्र है। इसलिए श्रीराम कुण्ड नामक स्थान के बाद नदी का मात्र आकार दिखाई पड़ता है न कि जल । एक भी कर्मचारी वहाँ कार्यरत् नहीं थे।
श्रीरामकुण्डस्य पार्श्वे स्थिते कस्मिंश्चित् भवने सम्मिलिताः श्रद्धालवः धार्मिकेषु विधिषु निरताः आसन्। तत्पार्श्वस्थ भवने महात्मगान्धेः चिताभस्म सुरक्षितम् अस्ति। श्रीरामकुण्डस्य एतत् वैशिष्ट्यम् अस्ति यत् तत्रत्ये कस्मिंश्चित् निश्चिते स्थाने विसृष्टम् अस्थि काभिश्चित् एव घण्टाभिः द्रतं भवति इति। वयं जानीमः यत् अस्थि जले सुखेन तु नैव द्रवति। अत्र तु तत् अल्पेन कालेन निश्शेष विलीयते। अत्र अस्थिविसर्जनं महत् पुण्यकरमपि। अतः एव अत्र अस्थिविसर्जनं कर्तुं देशस्य नानाभागेभ्यः बहवः श्रद्धालवः समागच्छन्ति। गोदावर्याः तीरे स्थितं त्र्यम्बकेश्वरमन्दिरं नारोशङ्करमन्दिरं नासिकस्य क्षेत्रस्य अपरे प्रेक्षणीये स्थाने। सरदारनारोशङ्करनामकेन 1747 तमे क्रिस्ताब्दे 18 लक्ष्यरूप्यकात्मकव्ययेन निर्मितम् एतत् मन्दिरं शिल्पकलादृष्ट्या अत्यन्तं विशिष्टम् अस्ति। देवालयस्य उपरि काचित् महती घण्टा प्रतिष्ठापिता अस्ति या पोर्चुगल्देशे निर्मिता इति श्रूयते। तस्याः ध्वनिः समग्रे नासिकनगरेऽपि श्रूयते स्म।
शब्दार्थ-पार्वे = पास में। कस्मिंश्चित् = किसी। सम्मिलिताः = शामिल । श्रद्धालवः = श्रद्धालु.। धार्मिकषु = धार्मिक । विधिषु = अनुष्ठान में । निरताः = लीन । तत् = उस। पावस्थेभवने = निकट के भवन में। वैशिष्ट्यम् = विशेषता। तत्रत्ये = वहीं। विसृष्टम् = फेंके गए । अस्थि = हड्डी। नैव = नहीं ही। द्रवति = घुलती है। विलीयते = विलीन हो जाती है। विसर्जनं = त्याग। समागच्छन्ति = आते हैं। अपरे = दुसरे, अन्य। प्रेक्षणीये = देखने योग्य । लक्ष्य = लाख । व्ययेन = खर्च से । निर्मितम् = बनाया हुआ । महती = महान् = बहुत बड़ा। प्रतिष्ठापिता = स्थापित। श्रयूते = सुना जाता है। समग्रे = सम्पूर्ण ।
अर्थ-श्रीरामकुण्ड के समीप अवस्थित किसी भवन में श्रद्धालु धार्मिक अनुष्ठान में लगे हुए थे। उसी के निकट के भवन में महात्मा गाँधी के चिता का भस्म सुरक्षित है। श्रीरामकुण्ड की यह विशेषता है कि वहीं किसी निश्चित स्थान पर फेंकी गई हड्डी कुछ ही घंटों में गल जाती है। हमलोग जानते हैं कि हड्डी जल में आसानी से नहीं चुनी जा सकती। इसमें तो वह अतिशीघ्र विलीन हो जाती है। यहाँ अस्थिविसर्जन करना अति पुण्यकर्म माना जाता है। इसलिए देश के विभिन्न भागों से अस्थि विसर्जन करने लोग यहाँ आते हैं। गोदावरी के तट पर स्थित त्र्यम्बकेश्वर महादेव का मंदिर तथा नारो शंकर का मंदिर तथा नासिक के अन्य क्षेत्र देखने योग्य हैं। सरदार नारो शंकर नामक व्यक्ति द्वारा 1747 ई. में 18 लाख रुपये में निर्मित यह मंदिर शिल्प कला की दृष्टि से अति महत्त्वपूर्ण है। मंदिर के ऊपर कोई बड़ा घण्टा बँधा हआ है, जो पोर्चुगल देश का बना हआ है। लोगों का ऐसा कहना है कि इस घण्टे की आवाज सम्पूर्ण नगर में सुनाई पड़ती है।

अभ्यासः
 प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1. धार्मिक दृष्ट्या नासिक क्षेत्रस्य वैशिष्ट्यं कीदृशम् अस्ति ?
उत्तर-धार्मिकदृष्ट्या नासिकक्षेत्रं प्रयागमिव हरिद्वारमिव पवित्रं मन्यन्ते। द्वादशसु वर्षेषु अत्र कुंभ मेला भवति । जनाः पितृणाम् अस्थि विसर्जनं कर्तुम् अत्र आगच्छन्ति ।
प्रश्न 2. कुंभमेला कुत्र-कुत्र लगति ?
उत्तर-कुंभमेला प्रयागे, हरिद्वारे नासिके च लगति।
 प्रश्न 3. गोदावर्याः उभयोः पार्श्वयो: के-के क्षेत्रे स्त: ?
उत्तर–गोदावर्याः एकस्मिन् पार्वे नासिक क्षेत्रं अस्ति, अपरस्मिन् च पार्वे पंचवटी क्षेत्रम् स्तः।
(ख) पञ्चवटी
पञ्चानां वटानां समाहारः पञ्चवटी-इति असकृत् पठितमेव अस्माभिः । तन्नाम्ना अभिधीयामाने स्थाने अद्यापि विलसन्ति पञ्च वटवृक्षाः। जीर्णानां पुरातनानां महावृक्षाणां स्थाने तन्मूलादेव उत्पन्नाः एते वृक्षाः न तथा महाकायाः सन्ति यथा अस्माभिः चिन्त्यन्ते। पञ्च संख्याभिः ते वृक्षाः निर्दिष्टाः चाहतमेव अस्माभिः । तन्नामा पञ्च वटवृक्षाः। जीर्णाना एते वृक्षाः न तथा अपि। पञ्चवट्या पुरतः एव अस्ति सीतागुहा। यदा शूर्पणखायाः नासिकाच्छेदः जातः तदा अग्रे सम्भाव्यमानं राक्षसानाम् आक्रमणं विचिन्त्य श्रीरामः अस्यामेव गुहायां सीतां सुरक्षितरूपेण संस्थाप्य स्वयं च खरदूषणादिभिः चतुर्दशसहस्रराक्षसैः सह युद्धम् अकरोत्। शरीरं सङ्कोच्य गुहा प्रविष्टा चेत् अन्तः अधोभागे प्रतिष्ठापितानां सीतारामलक्ष्मणानां मूर्तीनां दर्शनं कर्तुं शक्यम्। परन्तु हा, यदि भवन्तः स्थूलकायाः, तर्हि नार्हन्ति गुहां प्रवेष्टुम्।
शब्दार्थ-वटानां = पेड़ों का। समाहारः = समूह । पठितम् = पढ़ा गया। अस्माभिः = हमलोगों द्वारा। तन्नाम्ना = उस नाम से। अभिधीयामाने = पुकारे जाने वाले। अद्यापि = आज भी। बिलसन्ति = विद्यमान हैं । स्थाने स्थान पर । तन्मूलादेव= उसी की जड़ से ही। महाकायाः = विशाल । चिन्तयन्ते = सोचते हैं । निर्दिष्टाः = दिखाई पड़ते हैं। पञ्चट्या = पंचवटी के। पुरतः = सामने । यदा = जब । नासिकच्छेद जातः = नाक काटी गई। तदा = तब। अग्रे = आगे। विचिन्त्य = सोचकर । अस्यामेव = इसमें ही। गुहायां = गुफा में। संस्थाप्य = रखकर। चतुर्दश = चौदह । सहस्रराक्षसैः = हजार राक्षस से। सङ्कोच्य = झकाकर । अन्तः = भीतर में । मूर्तीनां = मूर्तियों का। स्थूलकायाः = मोटे शरीरवाले।
 अर्थ-पाँच वटवृक्षों के समूह को पंचवटी कहते हैं, ऐसा हमलोगों द्वारा पढ़ा गया। उस नाम से पुकारे जाने वाले स्थान पर आज भी पाँच वृक्ष विद्यमान हैं। जीर्ण एवं अति प्राचीन वृक्षों के स्थान पर उसकी ही जड़ से उत्पन्न ये वृक्ष उतना विशाल नहीं हैं जैसा हमलोग सोचते हैं। वे वृक्ष पाँच की संख्या में बँटे दिखाई पड़ते हैं। पञ्चवटी के सामने ही सीता गुफा है। जब शूर्पणखा की नाक काट ली गई तब राक्षसों के आक्रमण की संभावना से श्रीराम ने इसी गुफा में सीता को सुरक्षित रूप से रखकर स्वयं खरदूषण आदि चौदह हजार राक्षसों के साथ युद्ध किया था। शरीर को झकार गफा में प्रवेश करने पर भीतर नीचे भाग में स्थापित सीता, राम तथा लक्ष्मण का मूर्तियों के दर्शन कर सकते हैं। लेकिन यदि मोटे शरीर के हैं तो गुफा में प्रवेश करना संभव नहीं है।
ततः एव अन्यां गुहां प्रवेष्टुं मार्गः अस्ति। तस्यां च गुहायां भगवतः पञ्चरत्नेश्वरस्य महालिङ्गम् अस्ति। भगवान् श्रीरामः स्वहस्ताभ्याम् अस्य अर्चनम् अकरोत् इति वदन्ति अत्रत्याः। द्वयोः अपि अनयोः गुहयोः दर्शनम् महान्तम् आनन्दं जनयति। तत्पुरतः एव स्थलं किञ्चित् प्रदर्श्यते यत्र मारीचः हतः इति जनाः कथयन्ति। कालाराममंदिरम् अत्रत्यम् अपरं प्रेक्षणीयं स्थानम्। विशाले सुन्दरे च अस्मिन् मन्दिरे भगवतः श्रीरामस्य कृष्णशिलानिर्मिता मूर्तिः अस्ति। डा० भीमराव अम्बेदकरः अस्मिन् एव मन्दिरे हरिजनानां प्रवेशं कारयितुम् आन्दोलनम् कृतवान् आसीत्।
 शब्दार्थ-ततः = वहीं। प्रवेष्टुम् = प्रवेश करने के लिए। भगवतः = भगवान् । स्वहस्ताभ्याम् = अपने हाथ से। अर्चनम् = पूजां। अत्रत्या = यहीं। महान्तम् = आन। जनयति = प्रदान करता है। तत्पूरतः = उसी के सामने । किञ्चित् = कुछ । प्रदर्श्यत = बतात हैं। यत्र = जहाँ। हतः = मारा गया। अपरं = दूसरा। प्रेक्षणीयं = देखने योग्य । कृष्णशिलानिर्मिता = काले पत्थर से बनी। हरिजनानां = हरिजनों । कारयितुम् = कराने के लिए। कृतवान् = किया था।
अर्थ—वहीं दूसरी गुफा में प्रवेश करने के मार्ग है। उसी गुफा में भगवान पंचरत्नेश्वर का विशाल शिवलिंग है। भगवान् श्रीराम अपने हाथों से इनकी पूजा की थी, ऐसा यहाँ के लोग कहते हैं। इन दोनों गुफाओ के दर्शन से महान आनन्द की अनुभूति होती है। उसी के सामने के स्थान के बारे में लोगों का कहना है कि यहीं मारीच का वध किया गया था। काला राम मंदिर यहाँ का दूसरा दर्शनीय स्थान है। इस विशाल भव्य मदिर में काले पत्थर से निर्मित भगवान श्रीराम की मूर्ति है। इसी मंदिर में हरिजनों को प्रवेश कराने के . लिए डॉ. भीमराव अम्बेदकर ने आंदोलन किया था।
अभ्यासः
प्रश्न एवं उनके उत्तर
प्रश्न 1.पञ्चवट्या धार्मिक महत्त्वं लिखत ।
उत्तर—वनवास गमन काले रामः लक्ष्मेण सीतया सह पञ्चवट्यामेव अनिवसन । तत्रैव सीता बहुकालं सुरक्षिता अवसत् । तस्मात् कारणात् अस्य स्थानस्य विशिष्ट धार्मिकमहत्वं वर्तते।
प्रश्न 2. कालाराम मन्दिरे हजिनानां प्रवेशं कारयितुम् कः आन्दोलनं कृतवान आसीत् ?
उत्तर-कालाराम मन्दिरे हरिजनानां प्रवेश कारयितुम् डॉ. भीमराव अम्बेडकर * आन्दोलनं कृतवान् आसीत् ।
प्रश्न 3. सीतागुहासम्बद्धा का कथा प्रसिद्धा?
उत्तर-सीतागुहा सम्बद्ध कथा प्रसिद्धा अस्ति यत् यदा शूर्पणखाया नासिकाच्छेद जातः तदा श्रीरामः राक्षसानां आक्रमणं विचिन्त्य एकस्मिन् गुहायां सीतां सुरक्षित रूपेण संस्थाप्य स्वयं च खरदूषणादिभिः चतुर्दश सहनैराक्षसैः सह युद्धम् अकरोत् ।
प्रश्न 4. सीतागुहायां केषां प्रतिमाः प्रतिष्ठापिता: ?
 उत्तर-सीता गुहायां सीताराम लक्ष्मणानां मूर्तीनां प्रतिष्ठापिताः सन्ति ।