सप्तमः पाठः
भीष्म - प्रतिज्ञा

 प्रथमं दृश्यम्
स्थानं- राज - भवनम्
( उदासीनः चिन्तानिमग्नश्च देवव्रतः प्रविशति )
 देवव्रतः - ( स्वगतम् ) अहो , न जाने केन कारणेन अद्य मे पितृचरणाः चिन्ताकुला उदासीनाश्च विलोक्यन्ते ।किं तेषां काचित् शारीरिकी पीड़ा अथवा किमपि मानसिकं कष्टं वर्तते ।तत् अमात्यसमीपे गत्वा पितुः शोककारणं पृच्छामि ।पितुश्चिन्ताया अपनयनं तस्य प्रसादनं च पुत्रस्य प्रधानं कर्तव्यं भवति ।
 शब्दार्थ-उदासीनः = उदास । चिन्तानिमग्नश्च = और चिन्ता में डूबा हुआ। प्रविशति = प्रवेश करते हैं। स्वगतम् = अपने-आप। अद्य = आज। मे = मेरे । विलोक्यन्ते = दिखाई पड़ते हैं। काचित् = कोई । किमपि = कुछ । अमात्य = प्रधान मंत्री । पितुः = पिता के। पृच्छामि = पूछा हूँ। अपनयनं = दूर करना । प्रसादनं = खुश रखना।
(उदास तथा चिन्तामग्न देवव्रत का प्रवेश)
 देवव्रत-(अपने-आप से) अरे ! न जाने किस कारणवश आज मेरे पिताजी चिंतित और उदास दिखाई देते हैं। क्या उन्हें कोई शारीरिक कष्ट अथवा मानसिक कष्ट है। इसलिए मंत्री के पास जाकर पिताजी के शोक का कारण पूछता हूँ। पिता की चिन्ता दूर करना तथा उन्हें खुश रखना पुत्र का प्रथम कर्तव्य है।
पिता स्वर्गः पिता धर्मः पिता हि परमं तपः ।
पितरि प्रीतिमापन्ने प्रीयन्ते सर्वदेवताः ॥
धिक तं सुतं यः पितुरीप्सितार्थं क्षमोऽपि सन्न प्रतिपादयेत् यः।
जातेन किं तेन सुतेन कामं पितुर्न चिन्तां हि समुद्धरेद् यः ॥
शब्दार्थ-परमं = श्रेष्ठ। तपः = तपस्या। पितरि = पिता में। प्रीतिमापन्ने = श्रद्धा रखने। प्रीयन्ते = प्रसन्न होते हैं। धिक् = धिक्कार है। तं = उस। सुतं = पुत्र को। पितुरीप्सितार्थम् = पिता की प्रसन्नता के लिए । क्षमोऽपि = समर्थ होने पर भी । प्रतिपादयेत् = करता है। यः = जो । जातेन = जन्म लेना। समुद्धरेत् = मुक्त कर पाता है।
 अर्थ-पिता ही स्वर्ग है, पिता की सेवा करना ही सच्चा धर्म है, पिता की सेवा ही सच्ची तपस्या है, क्योंकि पिता को प्रसन्न रखने पर सारे देवता प्रसन्न हो जाते हैं। - धिक्कार है, उस पुत्र को जो सक्षम होने पर भी अपने पिता को प्रसन्न नहीं रख पाता है। ऐसे पुत्र का जन्म लेना बेकार है जो पिता को चिन्ता से मुक्त नहीं कर पाता है। अर्थात् जो पिता की चिन्ता अथवा पीड़ा दूर करने में अक्षम होता है, वैसे पुत्र का जन्म लेना बेकार है।
द्वितीयं दृश्यम् 
स्थानम् - अमात्यभवनम्
अमात्यः-( आयान्तं भीष्मं दृष्ट्वा ) अहो , राजकुमारः देवव्रतः ।आगम्यताम् , अलंक्रियतामासनमिदम् ।
( देवव्रतः प्रणम्य उपविशति ) राजकुमार! कुतो नाम एतस्मिन् असमये अत्र आगमनं भवतः ?
शब्दार्थ-आयान्तं = आते हुए । दृष्ट्वा = देखकर । अलंक्रियताम् = शोभा बढ़ाएँ। आसनमिदम् = इस आसन की। प्रणम्य = प्रणाम करके। उपविशति = बैठते हैं। कुतो = कहाँ से। एतस्मिन् = इस समय ।
अर्थ- स्थान : अमात्य भवन
 मंत्री-(भीष्म को आते हुए देखकर) अरे! राजकुमार देवव्रत । आएँ, इस आसन की शोभा बढ़ाएँ। (देवव्रत प्रणाम करके बैठता है)  राजकुमार ! किस कारण से आप असमय यहाँ आए हैं।
 देवव्रतः - अमात्यवर्याः ।अद्य किमपि नूतनं वृत्तं दृष्ट्वा विस्मितमानसः तत्समाधानाय भवत्समीपं समुपागतोऽस्मि ।
शब्दार्थ- अमात्यवर्याः = मंत्रीवर । नूतनं = नया । वृत्तं = व्यवहार, बात । विस्मितमानसः = आश्चर्यचकित होकर । भवत् = आपके । आगतोऽस्मि = आया हूँ।
अर्थ- देवव्रत-मंत्रीवर! आज कुछ नई बात देखकर विस्मित मन से उसके निदान के उद्देश्य से आपके समक्ष प्रस्तुत हुआ हूँ।
अमात्यः - ( साश्चर्यम् ) तत् किमिति ?
अर्थ-मंत्री—(आश्चर्यपूर्वक) वह क्या है ?
देवव्रतः- विद्यमानेष्वपि समस्तेषु सुखसाधनेषु न जाने अद्य केन हेतुना मम पितृपादाः दुःखिताः चिन्ताकुलचेतसश्च प्रतीयन्ते ।तदेतस्य कारणमहं ज्ञातुमिच्छामि , ज्ञात्वा च तस्य प्रतीकारं कर्तुमिच्छामि ।
शब्दार्थ-  विद्यमानेषु = मौजूद होने पर भी। हेतुना = कारण से। चिन्ताकुलचेतस = चिन्ताग्रस्त । प्रतीयन्ते = प्रतीत होते हैं। ज्ञातुम् = जानने के लिए। प्रतीकारं = दूर करने के लिए।
अर्थ-देवव्रत-सारे सुख-साधनों से सम्पन्न होने के बावजूद न जाने आज पिताजी दुःखी तथा चिन्तित क्यों हैं ? उसी कारण को जानने की इच्छा से आया हूँ और (उस) कारण को जानकर उसका समाधान करना चाहता हूँ।
अमात्यः - उचितमेवैतद् भवादृशानामार्यपुत्राणाम् ।
शब्दार्थ-   भवादृशान् = आप जैसे । आर्यपुत्राणाम् = महान् पुत्रों का ।
अर्थ-मंत्री—आप जैसे आर्यपुत्र के लिए यह उचित ही हैं।
देवव्रतः - तद् यदि भवन्तः एतस्य कारणं जानन्ति तर्हि तत्प्रकाशनेन अनुग्रहीतव्योऽस्मि ।
शब्दार्थ- अनुग्रहीतव्योस्मि = कृतज्ञ, धृत्य मानूँगा।
 अर्थ-देवव्रत—अतः यदि आप इसका कारण जानते हैं तो उसे बताकर मुझे धन्य करें।
अमात्यः - राजकुमार ।बाढं जानामि ।एतस्य कारणं तु आर्यपुत्र एवास्ति ।
शब्दार्थ- एवास्ति = यही है।
अर्थ-मंत्री-राजकुमार ! यह जानता हूँ। इसका कारण तो आप ही हैं।
देवव्रतः - ( साश्चर्यम् ) अहमेव कारणम् ?हा धिक् ।तत् कथमिव ?स्पष्टं निगद्यताम् ।
शब्दार्थ-निगद्यताम् = बताएँ।
 अर्थ-देवव्रत—(आश्चर्य से) मैं ही कारण हूँ। धिक्कार है (मेरा) ! वह किस प्रकार का है? मुझे बताएँ। 
अमात्यः - राजकुमार !एकस्मिन् दिने महाराजः वनाविहारखेलायां यमुनानदीतीरे परिभ्रमति स्म ।तदानीं दूरादेव स्वशरीरसुगन्धेन निखिलमपि वनं सुवासयन्ती एका सत्यवती नाम्नी परमसुन्दरी धीवरराजकन्या तस्य अकस्मात् दृष्टिपथं गता ।ततस्तस्या अद्भुतेन रूपेण विस्मयजनकेन सुगन्धेन च मुग्धो महाराजस्तया सह विवाहं कर्तृकामस्तस्याः पितरम् अयाचत ।
शब्दार्थ- परिभ्रमति स्म = घूम रही थी। तदा मी उस समय । दूरादेव= दूर से ही। निखिलमपि = सारे वनों को। सुवासयन्ती = सुगन,मय बनाती हुई। एका = एक । धीवर = मल्लाह । दृष्टिपथं गता = नजर पड़ी। कर्तुकामस्तस्याः पितरम् = करने की इच्छा से उसके पिता को। अयाचत = निवेदन किया।
 अर्थ-मंत्री- राजकुमार! एक दिन महाराज यमुना नदी के किनारे वन बिहार कर रहे थे। उसी समय दूर से ही अपने शारीरिक सुगंध से सारे वनप्रांत को सुगंधित करती हुई सत्यवती नाम की. परमसुन्दरी धीवरराज की पुत्री पर एकाएक उनकी नजर पड़ी। तब उसके अलौकिक सौन्दर्य तथा विस्मयजनक सुगंध से आकृष्ट होकर महाराज ने उसके साथ विवाह करने का प्रस्ताव उसके पिता के समक्ष रखा।
देवव्रतः - ततस्तेन किं कथितम् ।
शब्दार्थ-ततः = इसके बाद । तेन = उसके द्वारा । किं = क्या । कथितम् = कहा गया।
अर्थ-देवव्रत-तब उसने क्या कहा?
अमात्यः - ततस्तेन कथितम् - महाराजा ईदृशः सम्बन्धः कस्य अप्रियो भविष्यति परन्तु अहं भवता सह सत्यवत्याः तदैव विवाहं करिष्यामि यदा भवदनन्तरं अस्याः एव पुत्रो राजा भविष्यति इति भवान् प्रतिज्ञां कुर्यात् ।
शब्दार्थ-ततः = इसके बाद । तेन = उसके द्वारा । किं = क्या । कथितम् = कहा गया। ईदृशः = इस तरह का । भवता सह = आपके साथ । तदैव = तभी। भवदनन्तरं = आपके बाद । अस्याः = इसका। भवान् = आप। कुर्यात् = करें।
अर्थ-मंत्री-उसने कहा-महाराज! इस प्रकार का संबंध किसे नापसंद होगा, लेकिन मैं आपके साथ सत्यवती का विवाह तभी करूँगा, जब आपके बाद इसका ही पुत्र राजा बनेगा। (होगा) ऐसी प्रतिज्ञा आप करें।
देवव्रतः - ततो महाराजः किम् अवोचत् ?
अर्थ-देवव्रत-तब राजा ने क्या कहा ?
अमात्यः- ततो महाराजः किमपि उत्तर न दत्तवान् ।ततश्च आगत्य " कथं ज्येष्ठं पुत्रं विहाय सत्यवतीसुताय राज्य देयम् प्रतिज्ञाऽभावे च कथं सत्यवती लभ्यते " इत्येव अहर्निशं चिन्तयति ।इदमेव तस्य चिन्तायाः दुःखस्य च कारणं वर्तते ।
शब्दार्थ- अवोचत् = बोला। आगत्य = आकर । विहाय = छोड़कर । सत्यवतीसुताय = सत्यवती के पुत्र को। प्रतिज्ञाऽभावे = प्रतिज्ञा के बिना । कथं = कैसे । लभ्यते= पाया जा सकता है । इत्येव = यही । अहर्निशं = दिन-रात। चिन्तयति = सोचते हैं । इदमेव = यही ।
अर्थ-मंत्री—इसके बाद राजा ने कुछ भी नहीं कहा। और तब आकर "कैसे ज्येष्ठ पुत्र .. को छोड़कर सत्यवती के पुत्र को राजा बनाऊँ, इस प्रतिज्ञा के बिना सत्यवती को कैसे पाया जा सकता है, इसी बात को दिन-रात सोचते रहते हैं। यहीं उनके दुःख और चिन्ता का कारण है।
देवव्रतः - महामात्य !यदि एतावन्मात्रमेव कारण वर्तते तहिं सर्वथा अकिञ्चित्करमेतत् ।इदानीभेव अहं तस्य अपनयनाय उपायं करोमि । ( प्रणम्य निष्क्रान्तः )
शब्दार्थ- अकिञ्चिकरमेतत् = अति तुच्छ बात है। निष्क्रान्तः = निकल जाता है।
अर्थ-देवव्रत- हे महामंत्री ! यदि यही कारण है तो इसके लिए कुछ करना नहीं है। इसी समय मैं उसको (उस कारण को) दूर करने का उपाय करता हूँ। (प्रणाम करके निकल जाता है)।
( वने धीवरराजस्य समीपे देवव्रतस्य गमनं भवति , धीवरः जलनिरीक्षण - परायणस्तिष्ठति )
   अर्थ-(वन में धीवरराज के समीप देवव्रत का प्रस्थान, - धीवर जल का निरीक्षण करते हुए खड़ा है)
धीवरः - ( देवव्रतं दृष्ट्वा स्वगतम् ) अहो तेजस्विता अस्य कुमारस्या ( प्रकटम् ) कुमार !भवतः परिचयम् आगमनकारणं च ज्ञातुमिच्छामि ।
शब्दार्थ-गमनं = प्रस्थान। अहो = अरे। तेजस्विता = तेज, प्रतिभा। प्रकटम् = कहकर । ज्ञातुम् = जानने के लिए। शन्तनोः = शान्तनु का । आगमनकारणम् = आने का कारण।
अर्थ-धीवर(मल्लाह)-(देवव्रत को देखकर स्वयं से)-अहा, कितना तेजस्वी यह कुमार है। (प्रकट) कुमार! आपका परिचय तथा (आपके) आने का कारण जानना चाहता हूँ।
देवव्रतः - दाशराज !महाराजस्य शन्तनोः प्रियः पुत्रोऽहं देवव्रतनामा ।इदं च मम आगमनकारणम् ।अस्ति काचित् भवतो दुहिता सत्यवती नाम परमसुन्दरी ।
शब्दार्थ-दुहिता = पुत्री ।
अर्थ-देवव्रत-हे दाशराज! मैं महाराज शान्तनु का प्रिय पुत्र देवव्रत हूँ। और यह मेरे । आने का कारण है (कि) कोई आपकी पुत्री सत्यवती नाम की परमसुन्दरी है।
घीवरः - आम् , अस्ति एका ।
शब्दार्थ- आम् = हाँ ।
अर्थ-धीवर–हाँ, है एक।
देवव्रत - तया सह विवाहार्थम् अस्माकं तातपादाः चिन्ताकुलाः सन्ति ।तद् भवान् सत्यवतीप्रदानेन महाराजं चिन्तामुक्तं करोतु इति निवेदनं कर्तुम् अहं भवतः समीपमुपागतोऽस्मि ।
शब्दार्थ-तया सह = उसके साथ । तातपादा = पिताश्री। करोतु = करें । निवेदनम् = प्रार्थना ।
 अर्थ-देवव्रत-उसके साथ विवाह करने के लिए हमारे पिता व्यग्र हैं। इसलिए आप सत्यवती को देकर उनकी चिन्ता दूर करें, यही निवेदन करने के लिए मैं आपके पास आया हूँ।
धीवरः - महाराजकुमार !भवतः पितुश्चिन्ताया अपनयनस्य उपायस्तु भवतामेव हस्ते वर्तते ।
  शब्दार्थ- भवतामेव = आपके ही । हस्ते = हाथ में ।
अर्थ-धीवर-हे राजकुमार ! अपने पिता की चिन्ता दूर करने का उपाय आपके हाथ है।
देवव्रतः - तत् कथमिव ?
अर्थ-देवव्रत-वह कैसे?
धीवरः - यतो हि महराजशन्तनोः पश्चात् सत्यवतीपुत्र एव यदा राज्याधिकारी भविष्यति तदैव अहं तस्या महाराजेन सह विवाहं करिष्यामि इति मे प्रतिज्ञा अस्ति ।भवन्तश्च महाराजस्य ज्येष्ठपुत्रा इति धर्मत एव राज्याधिकारिणः ।तत् कथमहं सत्यवतीपुत्रस्य राज्यलाभं सम्भावयामि ?इयमेव सत्यवतीप्रदाने महती बाधा अस्ति ।
 शब्दार्थ-  धर्मतः = धर्मानुसार । इयमेव = यही। सत्यवतीप्रदाने = सत्यवती को देने में । बाधा = कठिनाई, रोड़ा।
 अर्थ- धीवर-यही कि महाराज शान्तनु के बाद सत्यवती का पुत्र ही राज्याधिकारी होगा, तभी मैं सत्यवती का विवाह महाराज के साथ करूँगा, यह मेरा निश्चय है। और महाराज के बड़े पुत्र आप हैं, धर्मानुसार आप ही राज्य के अधिकारी हैं, इसलिए. सत्यवती के पुत्र को राज्य का लाभ कैसे संभव है ? यही सत्यवती को देने के मार्ग में महान् रोड़ा है।
देवव्रतः - सदाढ्र्यम् !दाशराज! इयं काचिद् बाधा नास्ति ।भवतः प्रतिज्ञापूरणाय अहं बद्धपरिकरोऽस्मि ।महाराजानन्तरं सत्यवतीपुत्र एव राज्याधिकारी भविष्यति इत्यहं शतशः सर्वषां पुरस्तात् उद्घोषयाम ।तद् भवान् निर्भयो भूत्वा विवाहाय कृतनिश्चयो भवतु ।
शब्दार्थ-सदायम् = दृढ़तापूर्वक । काचिद् = कोई । बद्धपरिकरोऽस्मि = संकल्पबद्ध हूँ। शतशः = सैकड़ों बार। सर्वेषां = सबके। पुरस्तात् = सामने।
अर्थ-देवव्रत-दृढ़तापूर्वक । हे दाशराज! यह कोई बाधा नहीं है । आपकी प्रतिज्ञा पूरी करने के लिए मैं दृढ संकल्प हँ। महाराज के बाद सत्यवती का पुत्र ही राजा होगा। यह मैं सैकड़ों बार सबके सामने उद्घोषणा करता हूँ। इसलिए आप निर्भय होकर विवाह के लिए कृतसंकल्प होवें।
घीवरः - सत्यमेतत् ।नास्ति भवतः प्रतिज्ञायां मम सन्देहलेशोऽपि ।परन्तु भवदनन्तर यदि भवतः ।कश्चित् पुत्रो भवत्प्रतिज्ञाभङ्ग कुर्यात् तर्हिं सत्यवतीपुत्रस्य का गतिः भविष्यति ?
शब्दार्थ- भवदनन्तरं = आपके बाद । इममपि = यह भी।
अर्थ-धीवर—यह सत्य है। आपकी प्रतिज्ञा पर मुझे तनिक भी संदेह नहीं है, लेकिन आपके बाद आपका कोई पुत्रं प्रतिज्ञा का उल्लंघन करे तो सत्यवती के पुत्र की क्या दशा होगी?
देवव्रतः - अस्तु नाम , इममपि भवतो भयं सन्देहं च अहं निवारयामि ।सत्यवतीसूनरेव राज्याधिकारी भविष्यति इति पूर्वमेव प्रतिज्ञातं मया ।तथापि यदि ते मनसि एतादृशी आशङ्का वर्तते तर्हि पुनरपि अहं भीषण प्रणं करोमि यत् अहं कदापि विवाहं न करिष्यामि , आजीवनं च अखण्डितं ब्रह्मचर्यव्रतं धारयिष्यामि ।
शब्दार्थ- भवदनन्तरं = आपके बाद । इममपि = यह भी। निवारयामि = मिटाता हूँ। भीषणं = कठिन । कदापि = कभी भी।
अर्थ-देवव्रत-ऐसा न हो, आपकी यह शंका और भय मैं दूर करता हूँ। सत्यवती का पुत्र ही राजा होगा, ऐसा पहले ही मैंने प्रतिज्ञा की है। फिर भी यदि आपके मन में इस तरह की शंका है तो फिर मैं भी भीषण प्रतिज्ञा करता हूँ कि मैं कभी विवाह नहीं करूंगा और आजीवन अखंड ब्रह्मचर्य व्रत धारण करूँगा।
अद्य प्रभृति मे दाश !ब्रहाचर्यं भविष्यति ।
अपुत्रस्यापि मे लोका भविष्यत्यया दिवि ।।
शब्दार्थ- अपत्रस्यापि = बिना पुत्र का भी। अया = अक्षय । दिवि = स्वर्ग ।
अर्थ- देवव्रत कहते हैं-हे दाशराज! आज से ही मैं ब्रह्मचर्य व्रत का पालन करूँगा।  बिना पुत्र के भी मुझे अक्षय स्वर्ग लोक की प्राप्ति होगी।
अपि च-
(और भी)
 परित्यजेदं त्रैलोक्यं राज्यं देवेषु वा पुन ।
यद्वाऽप्यधिकमेताभ्यां न तु सत्य कदाचन ।।
 शब्दार्थ-परित्यजेत् = छोडता हूँ। त्रैलोक्यं = तीनों लोक (आकाश, पाताल तथा धरती)। कदाचन = कभा ।
अर्थ-इससे भी अधिक बात, मैं पुनः कहता हूँ कि मैं तीनों लोक के राज्य का त्याग कर सकता हूँ, देवलोक को छोड़ सकता हूँ, लेकिन मैं अपनी प्रतिज्ञा को नहीं छोड़ सकता ।
त्वजेच्च पृथिवी गन्धम् आपश्च रसमात्मनः । 
ज्योतिस्तथा त्यजेत् सहर्ष वायुः स्पर्शगुणं त्यजेत् ॥
शब्दार्थ-आपः = पानी ।ज्योतिः = प्रकाश। वायुः = हवा ।
अर्थ-पृथ्वी गंध को छोड़ सकती है, जल अपने रसं का त्याग कर सकता है, प्रकाश अपने रूप का त्याग कर सकता है तथा हवा स्पर्शगुण को छोड़ सकती है।
प्रभां समुत्सृजेदर्को धूमकेतुस्तथोप्यताम् ।
त्यजेत् शब्दं तथाऽकाशः सोमः शीतांशुतां त्यजेत् ॥
शब्दार्थ-  अर्कः = सूर्य । सोमः = चन्द्रमा । शीतांशु - शीतल , चाँदनी।
अर्थ-सूर्य अपनी किरण (प्रभा) का त्याग कर सकता है, धूमकेतु गर्मी त्याग सकता है, आकाश शब्द गुण को छोड़ सकता है, चन्द्रमा अपनी शीतला छोड़ सकता है
विक्रमं वृत्रहा जह्यात् धर्म जह्याच्च धर्मराट् ।
न त्वहं सत्यमुत्स्रष्टुं  व्यवसेयं कथञ्चन ॥
शब्दार्थ- विक्रम = पराक्रम । वृत्रहा = इन्द्र । उत्प्रष्टुं = कहा है। कथञ्चन - कमा नहीं।
अर्थ-इन्द्र अपना पराक्रम भूल सकता है और धर्मराज अपना धर्म छोड़ सकते हैं, लेकिन आपको दिए गए वचन को कभी मैं नहीं छोड़ सकता हूँ।
( नेपथ्ये साधुवाद : आकाशात् पुणवृष्टिश्च भवति )
शब्दार्थ-नेपथ्ये = पर्दे के पीछे से।
अर्थ -(नेपथ्य में 'धन्य हो' आकाश से फूल की वर्षा होती है।) 👏🌺🌼
धीवरः- ( बद्धान्जलि : ) अहो राजकुमार! धन्योऽसि , आदर्शपुत्रोऽसि ।भवादृशैरेव पुत्रैः इयं भारतवसुन्धरा आत्मानं धन्यधन्यां मनुते ।महानुभाव ।गम्यतामिदानीम् ।अचिरादेव अहं महाराजस्य मनोरथं पूरयामि ।
शब्दार्थ-साधुवाद = धन्यवाद । आकाशात् = आकाश से । - बद्धाञ्जलिः = दोनों हाथ जोड़कर । भवादृशैरेव = आपके जैसे पुत्र से । आत्मानं = अपनेआपको। अचिरादेव = अतिशीघ्र ही।
अर्थ - धीवर-(हाथ जोड़कर) हे राजकुमार! आप धन्य हैं। आप आदर्श पुत्र हैं। आपके जैसे पुत्र को पाकर ही भारत देश की धरती अपने-आपको धन्य मानती है। हे महानुभाव! इस समय आप जाएँ। अतिशीघ्र ही मैं महाराज की कामना पूरी करता हूँ।

अभ्यासः
 प्रश्न एवं उनके उत्तर

 प्रश्न 1. देवव्रतः कः आसीत्?
 उत्तर-देवव्रतः महाराज शान्तनोः प्रियः ज्येष्ठश्च पुत्रः आसीत्।
प्रश्न 2. देवव्रतः कां प्रतिज्ञाम् अकरोत्?
 उत्तर-देवव्रतः प्रतिज्ञा अकरोत् यत् अहम् राज्याधिकारी न भविष्यामि न च विवाह करिष्यामि । आजीवनं अखंडितं ब्रह्मचर्यं च धारयिष्यामि।
प्रश्न 3. सत्यवती कस्य दुहिता आसीत्?
 उत्तर-सत्यवती दाशराजस्य दुहिता आसीत।